Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: भारत के चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने की तारीख और समयः

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: भारत के चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने की तारीख और समयः

भारत का सबसे महत्वपूर्ण अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-3 अपने लक्ष्य से बस चंद घण्टों की दूरी पर है। ऐसे में सभी के मन में यह जानने की उत्सुकता हो रही है कि आखिर वो निश्चित समय कब आयेगा जब चंद्रयान-3 चाँद की सतह को छूकर इतिहास बनायेगा। आपको बता दें कि अगर भारत चाँद की सतह पर साफ्ट लैंडिंग करने में सफल होता है तो पूरे विश्व में ऐसा करने वाला चौथा देश बन जायेगा। इसके पहले रूस, चीन और अमेरिका ने ही चंद्रमा की सतह पर सही तरीके उतरने में सफलता पायी है।

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: दक्षिणी ध्रुव पर साॅफ्ट लैंडिंग करने वाला पहला देश बनेगा भारतः

अब सभी को बस 23 अगस्त 2023 का इंतजार है जब चंद्रयान-3 चाँद की सतह पर साफ्ट लैंडिंग करके विश्व का चौथा देश बनेगा और इतना ही नहीं, आपको यह भी बता दें कि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव (South Pole) पर उतरने वाला भारत, विश्व का पहला देश बन जायेगा और विश्व में एक नयी छाप छोड़ेगा। अभी तक किसी देश ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने की हिम्मत नहीं की है क्योंकि यह क्षेत्र घने अंधेरे में डूबा हुआ है।

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed
https://twitter.com/isro?ref_src=twsrc%5Egoogle%7Ctwcamp%5Eserp%7Ctwgr%5Eauthor

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed:बस चाँद से बस 25 किलोमीटर दूर चंद्रयान-3ः

भारत का अंतरिक्ष मिशन, चंद्रयान-3 अब चाँद से बस 25 से 125 किलोमीटर की दूरी पर है और लगातार चाँद के चक्कर लगा रहा है। इस अंतरिक्ष यान की स्पीड इस समय लगभग 1.68 किलोमीटर प्रति सेकेण्ड है और यह लगातार अपनी स्पीड को कम करते हुये चाँद के और पास पहुँच रहा है।

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: 23 अगस्त 2023 को इतिहास रचने की तैयारीः

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी (इसरो) ने बताया कि चंद्रयान-3 की डीबूस्टिंग के सभी चरण सफलतापूर्वक पार हो चुके हैं, अब बस इसके चाँद पर उतरकर इतिहास रचने की देरी है। इसरो के मुताबिक चंद्रयान-3 के चाँद की सतह पर 23 अगस्त 2023 की शाम 6 बजकर 4 मिनट पर साॅफ्ट लैंडिंग करने की उम्मीद है। चाँद की सतह पर उतरने के बाद चंद्रयान-3 में लगा रोवर (प्रज्ञान), लैंडर (विक्रम) से अलग होकर 14 दिनों तक वहाँ पर अपना परीक्षण का कार्य करेगा और जरूरी जानकारी पृथ्वी पर भेजेगा। आपको बता दें कि चंद्रमा का एक दिन पृथ्वी के 14 दिनों के बराबर होता है। रोवर (प्रज्ञान) में 6 पहिये लगे हैं जिनकी मदद से ये चाँद की सतह पर घूमकर आवश्यक जानकारी को इकट्ठा करेगा।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Rakshabandhan 2023 Date & Time: रक्षाबंधन 2023 के बारे में सारी जानकारी

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

Leave a Comment