Deepfake AI: डीपफेक AI टेक्नोलाॅजी क्या है, आवाज और चेहरा आपका होगा, लेकिन ऐक्टिविटी किसी और की।

Deepfake AI Technology

Deepfake AI: डीपफेक AI टेक्नोलाॅजी क्या है, आवाज और चेहरा आपका होगा, लेकिन ऐक्टिविटी किसी और की।

नमस्कार दोस्तों आज की ये पोस्ट समाज से जुड़ी एक बेहद गम्भीर समस्या के ऊपर आधारित है या आप यूँ कहें कि ये समाज से जुड़ा हुआ एक बेहद ही संजीदा और गम्भीर मुद्दा है। आज के हमारे इस पोस्ट का सिर्फ एक ही उद्देश्य है कि विश्व के हर भाई-बहन, बेटा-बेटी या समाज के हर उस वर्ग को इस आने वाली गम्भीर समस्या से अवगत कराना, जो कि जुड़ी हुयी है आर्टिफीशियल इंटेलीजेन्स (AI) से।

Deepfake AI: विज्ञान का दुरूपयोग:

इसको आप एक प्रकार का विज्ञान का दुरूपयोग भी कह सकते हैं, इसी आर्टिफीशियल इंटेलीजेन्स का उपयोग करके एक जारा पटेल नाम की लड़की ने अभिनेत्री रश्मिका मंधाना के रूप में खुद को बदल दिया, और उसके बाद इसका एक वीडियो जारी हुआ जिसको आप किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफाॅर्म पर बड़ी आसानी से देख सकते हैं। इसी को कहते हैं आर्टिफीशियल इंटेलीजेन्स (AI) का इस्तेमाल करके एक डीपफेक कान्टेंट को बनाना। इसका सीधा सा मतलब आपको समझाते हैं कि इस टेक्नोलाजी में आप किसी के भी शरीर पर किसी अन्य व्यक्ति का चेहरा लगाकर उससे वही कार्य करवा सकते हैं। इसमें आवाज और एक्टिविटी तो उसी फेक इंसान की होती है लेकिन चेहरा आपका इस्तेमाल कर लिया जाता है।
Deepfake AI: क्या है डीपफेकः
आपको बता दें कि Deepfake कोई नई टेक्नोलॉजी नहीं है। हालांकि इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ने और आर्टिफीशियल इंटेलीजेन्स (AI) टूल का एक्सेस बढ़ने के बाद अब Deepfake वीडियो तेजी से सामने आ रहे हैं। Deepfake Video और Deepfake Photo  के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल किया जाता है। Deepfake वीडियो को इस तरह से बनाया जाता है, कि इसे पहचान पाना साधारण इंसान के लिए बेहद मुश्किल है।

Deepfake AI Technology

Deepfake AI: आपकी आवाज की भी काॅपी हो सकती है

इस तरह के वीडियो को देखकर समाज को ये समझ में आयेगा कि ये आप कर रहे हैं, लेकिन इसके पीछे कोई और आपकी छवि को गन्दा करने में लगा होता है। इतना ही नहीं अगर इससे थोड़ा सा आगे बढ़कर देखेंगे तो आपकी हू बहू आवाज को काॅपी करके आपके ही जानने वाले को फोन करके स्कैम किये जा रहे हैं जैसे कि हाल ही में केरल राज्य में एक घटना देखने को मिली है। जिसमें एक बच्चे की आवाज का इस्तेमाल करके उसकेे पिता को फोन किया जाता है और एक अनहोनी दुर्घटना को बताकर अकाउन्ट में पैसे मंगाने का मामला सामने आया है। जबकि उस बच्चे को कुछ पता ही नहीं था। और इस केस में उस बच्चे के पिता हड़बड़ी में आकर पैसे भेज भी देते है।

Deepfake AI: इन्कोडर और डीकोडर:

एक टेक्निकल टर्म है जिसका नाम है इन्कोडर और डीकोडर जिसका इस्तेमाल करके ही आपके जैसी आवाज को आर्टिफीशियल इंटेलीजेन्स (AI) की मदद से बनाया जा रहा है।

Deepfake AI Technology

Deepfake AI: डीपफेक (Deepfake) की पहचान कैसे करेंः

डीपफेक (Deepfake) वीडियो या फोटो की पहचान कर पाना साधारण इंसान के लिए बेहद मुश्किल है। कई बार ऐसा होता है किसी की भी फेक वीडियो या फोटो बना दी जाती है, लेकिन उसकी पहचान कर पाना मुश्किल होता हैण् अगर आप भी इसका शिकार हुए हैं, या डर है आपको तो कुछ बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिये।

  • डीपफेक (Deepfake) वीडियो में हाथ.पैर कि हिलाने पर रखें नजर, इसमें आपको बारीकी से देखने पर ऐसा प्रतीत होगा कि आम इंसान का हाव भाव ऐसा नहीं हो सकता है लेकिन अगर आप इसी वीडियो को जल्दी में देखेंगे तो आपको इसमें सबकुछ सही लगेगा।
  • इससे बचने का सबसे सही तरीका है कि आप सोशल मीडिया पर पर्सनल फोटो या वीडियो अपलोड करने से बचें। सोशल मीडिया पर कभी न करें पर्सनल जानकारी शेयर ना करें फिर चाहे कोई कितना भी भरोसेमंद क्यों ना लग रहा हो। क्योंकि हो सकता है वो व्यक्ति आपके साथ सही हो लेकिन जिस सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर आप अपनी जानकारियों को शेयर कर रहे हैं, वहीं से आपकी जानकारी चुरा ली जाये। आजकल ज्यादातर सोशल मीडिया प्लेटफॅार्म पर अपनी प्रोफाइल को प्राइवेट करने का आप्शन आ गया है। इस आप्शन का इस्तेमाल करें और अपनी प्रोफाइल में उन्हीं को जगह दें जिनको आप पर्सनली जानते हों।
  • सबसे जरूरी बात, अगर जरूरत ना हो तो वीडियो काल ना करें इससे आपके हाव भाव से लेकर आपका चेहरा, आपकी आवाज, आपके बात करने का तरीका सबकुछ उस एप्लीकेशन के जरिये काॅपी किया जा सकता है जिस पर आप वीडियो काल कर रहे हो। इसमें आपको और आपके सामने वाले वीडियो काल पार्टनर को भनक भी नहीं लगेगी।
  • ऐसी स्थिति में सर्तकता ही बचाव है। अगर आप इंटरनेट का इस्तेमाल बचाव के साथ करेंगे, तभी आप इन सब से अपने आपको सुरक्षित कर सकते हैं।

Deepfake AI: Deepfake Video बनाने पर हो सकती है कार्रवाई

अगर आप किसी का Deepfake Video या फिर Deepfake Photo बनाते हैं और सोशल मीडिया में शेयर करते हैं तो आपके खिलाफ IPC की धारा 7 के तहत लीगल एक्शन लिया जा सकता है।

Deepfake AI: कैसे करें इसकी शिकायतः

दोस्तों इसको बहुत ही ध्यान से पढियेगा क्योंकि अब जो हम आपको बताने जा रहे हैं वो ऐसे लोगों के लिये है जो इसका शिकार हो चुके हैं लेकिन उनको पता नहीं कि इसमें करना क्या हैं, अभी हाल ही में राजस्थान के अजमेर में एक मामला सामने आया था जिसमें । Artificial Intelligence (AI) का इस्तेमाल करके एक कालेज की कुछ लड़कियों की तस्वीर लेकर उनकी गन्दी वीडियो बनाई गई थी और जिसके जरिये उनको ब्लैकमेल किया जा रहा था, और ब्लैकमेल इस हद तक किया गया कि उन लड़कियों ने सुसाइड कर लिया। तब जाकर ये मामला सामने आया।

Deepfake AI Technology

Deepfake AI: Complain Against Deepfake Video/Photo:

इसलिये अगर आपके साथ भी ऐसा कुछ गलत हुआ है या फिर होने की आशंका आपको लग रही है तो इस संबंध में भारत सरकार ने एक नियम बनाया है। कि अगर आपके चेहरे या आवाज का इस्तेमाल करके किसी भी प्रकार की असामाजिक वीडियो बनायी जाती है और आपको लगता है कि ये आपके लिये गलत हो सकता है, तो जिस भी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर वो वीडियो शेयर की गयी है, आप अगले 36 घंटे के अन्दर उस सोशल मीडिया प्लेटफार्म के आफिशियल इमेल आईडी पर, इस वीडियो को हटाने सम्बंधी निर्देश भेज सकते हैं और अगर फिर भी वो सोशल मीडिया प्लेटफार्म इस वीडियो को हटाने के लिये सहमत नहीं होता है तो आप उस सोशल मीडिया प्लेटफार्म के खिलाफ कोर्ट में भी जा सकते हैं और उस पर मानहानि का मामला भी दर्ज करा सकते हैं।

पूरी जाँच के बाद अगर आपके द्वारा की गयी शिकायत सही पायी जाती है तो उस सोशल मीडिया प्लेटफार्म को भारत मे हमेशा के लिये बंद किया जा सकता है चाहे वो कितना भी बड़ा प्लेटफार्म क्यों ना हो। ये आपका अधिकार है। कृपया इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा लोगों में शेयर करें जिससे कि फिर से राजस्थान के अजमेर जैसी कोई अप्रिय घटना ना हो।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

ICC ODI Worldcup 2023 Final Match: भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया: 20 साल बाद एक बार फिर जीत के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Section 144: धारा 144 के बारे में

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: अब यूपी में अपना रोजगार करने के लिये मिलेगा 25 लाख रूपये

 

WhatsApp Channel for All 2023: खुशखबरी, व्हाट्सएप्प चैनल बनाने का आप्शन सबके लिये खुल गया

WhatsApp Channel for All

WhatsApp Channel for All: खुशखबरी, व्हाट्सएप्प चैनल बनाने का आप्शन सबके लिये खुल गया

दोस्तों अगर आप भी एक सफलतम क्रियेटर बनना चाहते हैं और आनलाइन पैसे कमाना चाहते हैं तो ये मौका सिर्फ आपके लिये है। आज हम आपके लिये एक ऐसा तरीका लाये हैं जिसे अगर आज आप शुरू करते हैं तो भविष्य में आप इससे आनलाइन कमाई भी कर सकते हैं

आजकल हर कोई आनलाइन कुछ काम कर के एक्सट्रा इनकम कमाना चाहता है। ऐसे में अगर आप एक कदम आगे बढ़ाते हुये यूट्यूब, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफार्म पर अपना अकाउन्ट बना कर ये सोच रहे हैं कि आप यहाँ से अपनी कमाई का दूसरा जरिया निकाल सकते हैं तो शायद ये आपके लिये बहुत ही मुश्किल होगा। परन्तु ये नामुमकिन बिल्कुल नहीं है। अगर आप मेहनत करते हैं तो आप ऐसे प्लेटफार्म से जरूर पैसे कमा सकते हैं। लेकिन अब देखा जाये तो ऐसे प्लेटफार्म पर बहुत ज्यादा भीड़ हो चुकी है और अगर आपको यहाँ से पैसे कमाने हैं, तो आपको एक अच्छा कन्टेंट बनाना पड़ेेगा, जो कि बाकी सारे कन्टेंट से कुछ हटके होगा।

WhatsApp Channel for All

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

WhatsApp Channel Feature: अब व्हाट्सएप्प पर भी यूट्यूब के जैसे बनेंगे चैनल 

Wrong Transaction through UPI: गलती से यूपीआई से भेजे गये पैसे तुरंत वापस पायें

WhatsApp Channel for All: अपनी दिनचर्या लोगों से शेयर करें

अब ऐसे में अगर मैं आपसे कहूँ कि एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिस पर आप अपना चैनल बनाकर अगर सिर्फ अपनी दिनचर्या को शेयर करते हैं तो आने वाले समय में इस काम के लिये भी आनलाइन आपको पैसे मिलने वाले हैं, और इस प्लेटफार्म की सबसे अच्छी बात तो यह है कि अभी इसके बारे में बहुत कम ही लोगों को जानकारी है।

WhatsApp Channel for All: व्हाट्सएप्प का नया फीचर लांच

दोस्तों व्हाट्सएप्प ने अपने प्लेटफार्म पर एक नया फीचर लांच किया है। जिसके माध्यम से आप अपने ग्रुप, समूह, कंपनी, बिजिनेस, जगह या अपना व्यक्तिगत चैनल बना सकते हैं और इस चैनल के माध्यम से एक साथ में बहुत सारे लोगों को उसके बारे में अपडेट दे सकते हैं। संदेश के साथ ही आप इसमें फोटो और वीडियो भी साझा कर सकते हैं।

WhatsApp Channel for All

WhatsApp Channel for All: व्हाट्सएप्प चैनल कैसे बनायें

शुरूआत में यह फीचर कुछ वेरिफाइड व्हाट्सएप्प, बालीवुड सेलीब्रिटी, क्रिकेटर्स और जाने माने लोगों के लिये के लिये खोला गया था। लेकिन अब आप सभी को अपना चैनल बनाने के लिये आप्शन मिल चुका है। आपके लिये बता दें कि पहले जिस जगह से आप अपना स्टेटस अपडेट करते थे। अब उसी को बदलकर अपडेट्स (Updates) का नाम दिया गया है। इस पर क्लिक करने के बाद आपको प्लस (+) का निशान मिलेगा जिस पर क्लिक करके आप अपना चैनल बना सकते हैं। अगर आपको अभी भी प्लस के निशान पर क्लिक करने के बाद क्रियेट चैनल (Create Channel) का टैब नहीं मिल रहा है तो आप समय समय पर चेक करते रहें, बहुत जल्द ही ये आप्शन आपके व्हाट्सएप्प में भी मिल जायेगा।

WhatsApp Channel for All: व्हाट्सएप्प का मोनेाइजेशन फीचर

दोस्तों व्हाट्सएप्प के इस नये फीचर के लांच होने के बाद लोगों का यह मानना है कि आने वाले समय मेें व्हाट्सएप्प चैनल के अन्दर ऐड मोनेटाइजेशन का फीचर भी आयेगा जिससे आप यूट्यूब चैनल के जैसे ही व्हाट्सएप्प चैनल से भी पैसे कमा सकते हैं। तो अगर आपको लगता है कि आपके अन्दर भी कोई ऐसी खास बात है जो आपको दुनिया से अलग करती है तो आज ही आप अपना व्हाट्सएप्प चैनल बनायें और उसके माध्यम से लोगों को अपनी छुपी हुयी प्रतिभा के बारे में जरूर बतायें।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Section 144: धारा 144 के बारे में

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

 

.

WhatsApp Channel Feature: अब व्हाट्सएप्प पर भी यूट्यूब के जैसे बनेंगे चैनल

WhatsApp Channel Feature

WhatsApp Channel Feature: अब व्हाट्सएप्प पर भी यूट्यूब के जैसे बनेंगे चैनल 

WhatsApp Messenger (व्हाट्सएप्प मैसेन्जर) एक अमेरिकी मैसेजिंग एप्प है। इस एप्प को पहली बार 2009 में लांच किया गया था, फिर बाद में चलकर फेसबुक ने 2014 में व्हाट्सएप्प को 19 बिलियन डालर में खरीद लिया था। इस समय व्हाट्सएप्प के दुनिया भर में करीब 2 बिलियन यानि 2 अरब से भी ज्यादा यूजर्स है। अगर भारत की बात की जाये तो लगभग 487 मिलियन यानि 49 करोड़ के आस-पास यूजर्स व्हाट्सएप्प का इस्तेमाल करते हैं।
व्हाट्सएप्प के जरिये आप किसी को भी लिखित या मौखिक संदेश भेज सकते हैं। इसके साथ ही आप इस एप्प के माध्यम से अपने फोन से कोई भी फोटो या वीडियो भी शेयर कर सकते हैं।

WhatsApp Channel Feature: व्हाट्सएप्प अपडेट का नया फीचर लांच

अब व्हाट्सएप्प ने अपने प्लेटफार्म पर एक नया फीचर लांच किया है। जिसके माध्यम से आप अपने ग्रुप, समूह, कंपनी, बिजिनेस, जगह या अपना व्यक्तिगत चैनल बना सकते हैं और इस चैनल के माध्यम से एक साथ में बहुत सारे लोगों को उसके बारे में अपडेट दे सकते हैं।

WhatsApp Channel Feature

WhatsApp Channel Feature: क्या है व्हाट्सएप्प चैनल

जैसे कि मान लीजिये आपका कोई स्कूल है और आपने अपने स्कूल के नाम पर व्हाट्सएप्प के माध्यम से एक चैनल बनाया। अब इस स्कूल में पढ़ने वाले जितने भी बच्चे हैं उनके माता-पिता के फोन में व्हाट्सएप्प के जरिये इस चैनल की जानकारी भेज दी। या फिर वो खुद भी व्हाट्सएप्प के अपडेट वाले सेक्शन में जाकर स्कूल के नाम से सर्च करके आपके स्कूल के चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं। इसके बाद आपको जब भी कोई संदेश स्कूल की तरफ से बच्चों को देना होगा तो आप इस चैनल पर ब्राडकास्ट के माध्यम से दे सकते हैं।

WhatsApp Channel Feature: व्हाट्सएप्प चैनल और व्हाट्सएप्प ग्रुप में अंतर

वैसे देखा जाये तो इसके पहले व्हाट्सएप्प ग्रुप बनाकर भी आप इस तरह के संदेश भेजते थे। लेकिन अब चैनल के माध्यम से आपको किसी भी संदश को भेजने का एक नया लुक मिलेगा। आप इसे अपनी वेबसाइट की तरह समझ सकते हैं। संदेश के साथ ही आप इसमें फोटो और वीडियो भी साझा कर सकते हैं।

WhatsApp Channel Feature
WhatsApp Channel Feature: अभी सिर्फ वेरिफाइड यूजर्स को अनुमति

अभी शुरूआत मेें यह फीचर कुछ लोगों के लिये खोला गया है। लेकिन बाद में सबको अपना चैनल बनाने के लिये आप्शन मिल जायेगा। अगर अभी आप देखेंगे तो कुछ बालीवुड सेलीब्रिटी, क्रिकेटर्स और जाने माने लोगों के लिये अपना चैनल बनाने की अनुमति है या आप ये कह सकते हैं कि जिनके पास वेरिफाइड व्हाट्सएप्प था, ये फीचर अभी सिर्फ ऐसे लोगों के लिये ही खोला गया है।

WhatsApp Channel Feature:  व्हाट्सएप्प में कहाँ मिलेगा चैनल
अभी बहुत लोगों को ये पता ही नहीं है कि व्हाट्सएप्प में अपडेट्स का फीचर कहाँ से मिलेगा। अगर आपको पहले से पता है तो आप व्हाट्सएप्प के एक्टिव यूजर्स माने जायेंगे। अब जिनको नहीं पता है उनके लिये बता दें कि पहले जिस जगह से आप अपना स्टेटस अपडेट करते थे। अब उसी को बदलकर अपडेट्स कर दिया गया है। इस पर क्लिक करने के बाद आप थोड़ा सा स्क्राल करके नीचे की तरफ जायेंगे तो आपको कुछ वेरिफाइड बालीवुड सेलीब्रिटी, क्रिकेटर्स और जाने माने लोगों के चैनल दिख जायेंगे। सभी चैनल्स के सामने आपको प्लस (+) का निशान मिलेगा जिस पर क्लिक करके आप उसको सब्सक्राइब कर सकते हैं। इसके बाद आपको उस चैनल से जुड़ी सभी जानकारियाँ मिलने लगेंगी।
WhatsApp Channel Feature: अपडेट कर लें अपना व्हाट्सएप्प
अगर आपके व्हाट्सएप्प में अभी भी पहले के जैसे स्टेटस का टैब दिख रहा है तो आप अपने एन्ड्राॅइड फोन के प्लेस्टोर में जाकर अपना व्हाट्सएप्प अपडेट कर लें। जिससे ये फीचर आपके फोन में भी दिखने लगेगा।
ये जानकारी आपको कैसी लगी आप हमें कमेंट कर के बता सकते हैं। इस से जुड़ी किसी भी जानकारी के लिये आप कमेंट कर सकते हैं।
आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Toll Tax Fee Receipt: टोल टैक्स की रसीद कभी मत फेंकना

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: अब यूपी में अपना रोजगार करने के लिये मिलेगा 25 लाख रूपये

Wrong Transaction through UPI: गलती से यूपीआई से भेजे गये पैसे तुरंत वापस पायें

Section 144: धारा 144 के बारे में

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

.

Chandrayan-3 Latest Update: चन्द्रमा की परिधि में चंद्रयान-3 का सफलतापूर्वक प्रवेश

Chandrayan-3 Latest Update:

Chandrayan-3 Latest Update: चन्द्रमा की परिधि में चंद्रयान-3 का सफलतापूर्वक प्रवेश

चंद्रयान-3 अपने सफर का लगभग दो-तिहाई फासला तय करके चंद्रमा की परिधि (Lunar Orbit) में पहुंच चुका है। इसकी जानकारी भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने ट्वीट करके दी। जिसमें यह बताया गया है कि चंद्रयान-3 ने दो तिहाई दूरी पूरी कर ली है और अब यह पृथ्वी के प्राकृतिक उपग्रह अर्थात चन्द्रमा के चक्कर लगाना शुरू करेगा। अर्थात चंद्रयान-3, चन्द्रमा की गोलाकार कक्षा में 06 अगस्त 2023 की शाम को पहुँच चुका है।

च्ंद्रयान-3 मिशन को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने 14 जुलाई 2023 को लांच किया था और अब यह मिशन अपने बहुत ही महत्वपूर्ण फेज में पहुँच चुका है क्योंकि यह अंतरिक्ष यान अब चंद्रमा के बहुत करीब पहुँच चुका है। इसरो के टेलीमेट्री, ट्रैकिंग और कमांड नेटवर्क ने अंतरिक्ष यान से लूनार आर्बिट का सफलतापूर्वक निष्कासन करके चंद्रमा की कक्षा में पहुँचा दिया है।

Chandrayan-3 Latest Update:  किस काम आयेगा यह अंतरिक्ष यान (चंद्रयान-3)

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के द्वारा 14 जुलाई 2023 को चंद्रयान-3 अंतरिक्ष यान को लांच किया गया। जिसने सर्वप्रथम अपनी धरती की 5 परिक्रमा पूरी की और उसके बाद पृथ्वी के आर्बिट से बाहर की परिक्रमा शुरू की और इसी क्रम में यह 16 अगस्त तक चंद्र के आर्बिट में रहकर चंद्रमा के चक्कर लगायेगा और फिर 17 अगस्त के बाद से यह चंद्रमा की सतह की ओर बढ़ना प्रारंभ करेगा और अंत में अंतरिक्ष बैज्ञानिकों के मुताबिक 23 अगस्त 2023 को चंद्रमा की सतह पर लैंड करेगा।
इस दौरान चंद्रयान-3 में बहुत सारे बदलाव देखने को मिलेंगे और यही बदलाव आगे चलकर हमारे देश के बहुत कााम आयेंगे। आइये समझते हैं कि चंद्रयान-3 की पूरी यात्रा में क्या क्या बदलाव होंगे। आपको बता दें कि चंद्रयान-3 में लैंडर, रोवर और प्रोपल्शन माड्यूल लगे हुये है जो कि 16 अगस्त 2023 तक चंद्रमा की परिधि में रहकर चंद्रमा के चक्कर लगायेंगे इसके बाद जब यह अंतरिक्ष यान चंद्रमा की सतह की ओर बढ़ेगा तब इसमें से इसका प्रोपल्शन माड्यूल अलग हो जायेगा और पहले की भांति ही चंद्रमा की परिधि में घूमता रहेगा और वहां से पृथ्वी से फैलने वाली विकिरण/रेडियेशन की जानकारी एकत्र करेगा।

Chandrayan-3 Latest Update:

अब चंद्रयान में सिर्फ लैडर और रोवर बचे हैं, जो चंद्रमा की सतह तक जायेंगे जिसमें से लैंडर चंद्रमा की सतह पर उतरेगा और रोवर उसमें से अलग होकर वहांँ की सतह पर घूमकर बहुत सारी अहम जानकारी एकत्रित करेगा। इसमें लैडर और रोवर को जो नाम इसके पिछले मिशन चंद्रयान-2 में दिया गया था वही नाम इस बार भी है। भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक माने जाने वाले डाॅ0 विक्रम ए. साराभाई के नाम पर लैंडर को विक्रम नाम दिया गया है।

Chandrayan-3 Latest Update:  इसरो के मिशन चंद्रयान-3 में लगे लैंडर के बारे में अहम जानकारीः

जैसा कि आप सभी को पता ही होगा कि चंद्रयान-2 मिशन में लैंडर के सही ढ़ंग से चंद्रमा की सतह पर ना उतर पाने की वजह से उसका धरती से संपर्क टूट गया था और वह मिशन अपने आखिरी समय में पहुँचकर भी विफल हो गया था। इसलिये इस समय सभी भारतवासियों के साथ साथ अंतरिक्ष बैज्ञानिको की उम्मीदें एक बार फिर से लैंडर के सही तरीके से चंद्रमा की सतह पर उतरने को लेकर लगी हुयी हैं लैंडर की सही तरीके से लैंडिंग को सुनिश्चित करने के लिये कई सेंसर लगाये गये हैं जिसको पृथ्वी से नियंत्रित किया जा सकता है और लैडर खुद भी इन सेंसर की मदद से अपनी सुरक्षा कर सकता है। इस बार विक्रम लैंडर का वजन रोवर सहित कुल 1749 किलोग्राम है इसमें लगे सोलर पैनल की मदद से 738 वाट की पावर उत्पन्न हो सकती है। ये मिशन चंद्रमा के एक दिन के बराबर काम करेगा। चंद्रमा के एक दिन की तुलना अगर पृथ्वी से करें तो ये 14 दिनों के बराबर होता है।

Chandrayan-3 Latest Update:  अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर भारत का दबदबा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के द्वारा लांच किया गया चंद्रयान-3, चांद की सतह पर सुरक्षित और सॉफ्ट लैंडिंग के लिए देश की क्षमताओं को प्रदर्शित करेगा। इसके बाद चीन अमेरिका और रूस के बाद भारत चैथा देश बन जायेगा। चन्द्रयान-3 को पृथ्वी से लांचिंग के बाद चंद्रमा की कक्षा तक पहुंचने में लगभग 33 दिन का समय निर्धारित किया गया है और चंद्रमा की सतह पर उतरने के बाद यह अंतरिक्ष यान लगभग 14 दिनों तक अपना काम करेगा जो कि चंद्रमा के एक दिन के बराबर होगा।

Chandrayan-3 Latest Update:  23 अगस्त को पूरा होगा चंद्रयान-3 मिशन

च्ंद्रयान-3 मिशन को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने 14 जुलाई 2023 को लांच किया था। 5 अगस्त 2023 को इसरो के द्वारा यह जानकारी दी गयी कि अंतरिक्ष यान को सफलतापूर्वक चंद्रमा की कक्षा में स्थापित कर दिया गया है और यह प्रयास उस समय किया गया जब चंद्रयान-3 चंद्रमा के सबसे करीब था, इसरो के अंतरिक्ष बैज्ञानिकों के मुताबिक चंद्रयान-3 (Chandrayan-3), 23 अगस्त 2023 को चंद्रमा की सतह पर साॅफ्ट लैंडिंग करेगा।

Source: Amar Ujala

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

ISRO PSLV-C56: सिंगापुर के 7 सैटेलाइट को लेकर अंतरिक्ष में भरी उड़ान।

ICC Cricket World Cup 2023: Information on Free Ticket Booking & Rates-भारत में आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2023, टिकट की कीमत और आरक्षण प्रक्रियाः

ISRO PSLV-C56: सिंगापुर के 7 सैटेलाइट को लेकर अंतरिक्ष में भरी उड़ान।

ISRO PSLV-C56:

ISRO PSLV-C56: सिंगापुर के 7 सैटेलाइट को लेकर अंतरिक्ष में भरी उड़ान।

भारत की अंतरिक्ष एजेंसी ISRO (Indian Space Research Organization) के द्वारा चंद्रयान-3 (Chandrayaan 3) की सफल लॉन्चिंग के बाद फिर से अंतरिक्ष में एक बड़ी उड़ान भरी है। श्रीहरिकोटा में स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र आंध्र प्रदेश से इसरो न अपनेे रॉकेट ISRO PSLV-C56 को लॉन्च किया। इसने सिंगापुर के सात विदेशी सैटेलाइट को अंतरिक्ष में स्थापित करने के लिये लॉन्च पैड से रविवार सुबह 06:30 बजे उड़ान भरी।

रविवार, 30 जुलाई को इसरो के 90वें अंतरिक्ष मिशन से तीन दिन पहले। पीएसएलवी-सी56 रविवार को सुबह 6:30 बजे फर्स्ट लॉन्च पैड, सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र, श्रीहरिकोटा, आंध्र प्रदेश से सिंगापुर के सात उपग्रहों को अंतरिक्ष में लॉन्च करने के लिये निकला।

ISRO PSLV-C56:अन्तर्राष्ट्रीय सहयोग में मजबूत स्थिति:

इसरो के द्वारा अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में अन्तर्राष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करने के साथ साथ ISRO PSLV-C56 मिशन भारत की अंतरिक्ष तकनीकि की शक्ति को भी दर्शाता है DS-SAR नाम का सिंगापुर का उपग्रह इसरो के ISRO PSLV-C56 का मुख्य उपग्रह था जिसको 535 किलोमीटर ऊचाई वाली निकट भूमध्यरेखीय कक्षा (NEO) में स्थापित किया गया।

ISRO PSLV-C56: मुख्य उपग्रह DS-SAR का कुल वजन 360 kg

मुख्य उपग्रह DS-SAR का कुल वजन 360 kg है । इसमें सिंथेटिक अपर्चर रडार लगा है जिसको इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज द्वारा बनाया गया है। इससे अंतरिक्ष से धरती की तस्वीरें ली जाएंगी। यह हर तरह के मौसम में दिन.रात काम करता है। इसे एसटी इंजीनियरिंग और सिंगापुर की रक्षा विज्ञान और प्रौद्योगिकी एजेंसी ने मिलकर बनाया है।

ISRO PSLV-C56: PSLV ने भरी 56वीं उड़ान

इसरो के रॉकेट PSLV (Polar Satellite Launch Vehicle) की यह उड़ान कुल मिलाकर 56वीं उड़ान है। इस रॉकेट के ऊपरी चरण को उसके छोटे कक्षीय जीवन को सुनिश्चित करने के लिए सभी उपग्रहों को इंजेक्ट करने के बाद निचली कक्षा में स्थापित किया जाएगा।
इसरो के अनुसार, पीएसएलवी-सी56 को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससीद्) में पहले लॉन्च पैड (एफएलपी) से लॉन्च किया गया था। यह इसरो का सबसे भरोसेमंद रॉकेट है। रविवार को इसरो की कंपनी न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड (NSIL) के साथ अनुबंध के तहत इसरो द्वारा 431वां विदेशी उपग्रह अंतरिक्ष में पहुंचाया गया है। NSIL इसरो के लिये विदेशी उपग्रहों के अंतरिक्ष में भेजने का काम देखती है। अभी हाल ही में दो सप्ताह पहले चंद्रयान-3 को इसरो ने अंतरिक्ष में भेजा था।

DS-SAR से ली गई तस्वीरों का इस्तेमाल सिंगापुर सरकार तेल और गैस की खोज, कृषि क्षेत्र की निगरानी और बुनियादी ढांचे के मूल्यांकन को तय करने में कर सकती है। DS-SAR के साथ छह अन्य उपग्रह VELOX-AM,आर्केड, SCOOB-II, NuLIoN, गैलासिया-2 और ORB-12 STRIDER हैं। एक बार तैनात और चालू होने के बादए इसका उपयोग सिंगापुर सरकार के भीतर विभिन्न एजेंसियों की उपग्रह आवश्यकताओं को पूरा किया जा सकेगा।

Source Twitter

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

ICC Cricket World Cup 2023: Information on Free Ticket Booking & Rates-भारत में आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2023, टिकट की कीमत और आरक्षण प्रक्रियाः

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें