Cash Rules 2023: आप अपने घर में कितना कैश रख सकते हैं? नियम एवं शर्तें

Cash Store at home

Cash Rules 2023: आप अपने घर में कितना कैश रख सकते हैं? नियम एवं शर्तें: 

दोस्तों क्या आपको पता है कि आप अपने घर में कुल कितना कैश जमा करके रख सकते हैं? अगर नहीं तो हम ये पोस्ट आपके लिये ही लाये हैं। अब इसके बाद आपको अपने घर में कैश रखने में किसी प्रकार का संशय नहीं रहेगा।
अगर आपने अपने घर में ज्यादा कैश रखा हुआ है तो आपके घर में कभी भी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की रेड हो सकती है। आपने अक्सर ऐसा समाचार सुना होगा, और अगर किसी के पास आय से अधिक सम्पत्ति मिलती है तो उसके खिलाफ कार्यवाही भी की जाती है।

Section 144: धारा 144 के बारे में

Cash Rules 2023: घर में कितना कैश रखने की अनुमति है ?

दोस्तों आपको बता दें कि आयकर विभाग के नियमों के मुताबिक घर में कैश रखने की कोई सीमा नहीं होती है, आप अपने घर में कितना भी रूपया पैसा इकट्ठा करके रख सकते हो। इस पर आयकर विभाग आपके खिलाफ कोई भी कार्यवाही नहीं कर सकता है। लेकिन अगर कभी आयकर विभाग आपके घर की जाँच करता है या आपके घर पर रेड करता है तो आपको अपने घर में रखे सारे कैश का सही सही व्यौरा देना होगा कि ये कैश आपके पास कहाँ से आया है, इसके साथ ही आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि आपके घर में रखे गये सभी कैश सही तरीके से कमाये गये हों इनको प्राप्त करने में किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी ना की गयी हो। अगर यह सब सही पाया जाता है तो आयकर विभाग आपके ऊपर कोई भी कार्यवाही नहीं कर सकता है।

Cash Rules 2023

Cash Rules 2023: आयकर (Income Tax) का भुगतान समय पर करें ? 

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि आप अपने घर में कितना भी कैश स्टोर करके रख सकते हैं लेकिन जब कभी भी आयकर विभाग के अधिकारियों के द्वारा इसका व्यौरा पूँछा जाये तो आप इसका सही व्यौरा तैयार रखें और साथ ही इस धन के मुताबिक जो भी इनकम टैक्स बनता हो, उसके सही समय से किये भुगतान का व्यौरा भी सुरक्षित रखें। जिससे आप यह साबित कर सकें कि यह धन एक वैध तरीके से कमाया गया है, और इस कमाये हुये कैश पर सरकार को भी टैक्स दिया गया है, फिर इसके बाद आयकर विभाग आपके खिलाफ कोई भी कार्यवाही नहीं कर सकता है।

Deepfake AI: डीपफेक AI टेक्नोलाॅजी क्या है, आवाज और चेहरा आपका होगा, लेकिन ऐक्टिविटी किसी और की।

Cash Rules 2023: सही आयकर (Income Tax) ना भरने पर होगी सकती है कार्यवाहीः

आपके पास जो भी धन है, चाहे वह कैश में हो या आपके बैंक खाते में, उसके मुताबिक ही आपको इनकम टैक्स का भुगतान करना होगा। अगर आप किसी भी धन पर टैक्स छुपाने की कोशिश करते हैं तो आपके ऊपर आयकर विभाग के द्वारा कार्यवाही की जा सकती है। इसलिये ऐसा बिल्कुल भी ना करें कि साल में 1 लाख रूपये के हिसाब से अपना आयकर जमा करें और आपके घर में 1 करोड़ की सम्पत्ति मिले। ऐसा करना आपके लिये घातक हो सकता है।

Cash Rules 2023

Cash Rules 2023: आय का सही व्यौरा ना देने पर क्या होगा ?

अगर आपके घर पर आय से अधिक सम्पत्ति रखने के मामले में आयकर विभाग के द्वारा जाँच की जाती है और आपके घर में मिले धन का व्यौरा आप सही सही नहीं दे पाते हैं तो आपके घर में मिलने वाले सारे कैश पर 137 प्रतिशत का टैक्स लगाया जा सकता है। इसका मतलब ये हुआ कि आपके घर पर मिलने वाली सभी नकदी को जब्त कर लिया जायेगा और इसके बाद आपके ऊपर 37 प्रतिशत की अतिरिक्त पेनाल्टी लगायी जायेगी।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Deepfake AI: डीपफेक AI टेक्नोलाॅजी क्या है, आवाज और चेहरा आपका होगा, लेकिन ऐक्टिविटी किसी और की।

Emergency Alert Message on Mobile: क्या आपके मोबाइल पर भी आ रहा है सरकार की तरफ से अलर्ट मैसेज

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Section 144: धारा 144 के बारे में

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: अब यूपी में अपना रोजगार करने के लिये मिलेगा 25 लाख रूपये

Kids Mobile Phone and TV Addiction: बच्चों की मोबाइल की लत कितनी खतरनाक, मोबाइल और टीवी देखने की लत कैेसे छुड़ायें।

Kids Mobile Phone and TV Addiction

Kids Mobile Phone and TV Addiction: बच्चों की मोबाइल की लत कितनी खतरनाक, मोबाइल और टीवी देखने की लत कैेसे छुड़ायें।

दोस्तों ये पोस्ट एक ऐसी समस्या के बारे में है जिसे शायद आगे चलकर एक विश्वव्यापी समस्या के रूप में देखा जायेगा। ये है आपके बच्चों के मोबाइल फोन और टीवी देखने की आदत। आपकी जानकारी के लिये बता दें कि बच्चों के उपर किये गये कई अध्ययनों में यह खुलासा हुआ है कि अगर बच्चे मोबाइल फोन का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं तो आगे चलकर उनके आँखों की रोशनी पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ता है और छोटी सी उम्र में ही उनको चश्मा लगाना पड़ सकता है। साथ ही छोटे बच्चों में मोबाइल फोन की आदतों से उनके स्वभाव में चिड़चिड़ापन बहुत हद तक बढ़ जाता है क्योंकि वो उसी मोबाइल को अपनी दुनिया समझने लगते हैं। ऐसे में अगर आप उनसे कुछ भी बोलते हो तो वो उस बात का उत्तर बहुत चिड़चिड़ेपन के साथ देते हैं। अगर आप के बच्चे के साथ भी ऐसा ही कुछ हो रहा हो तो अभी भी समय है, सावधान हो जाइये और अपने बच्चों से मोबाइल और टीवी को दूर करने का उपाय खोज लीजिये, लेकिन जबरदस्ती बिल्कुल भी ना करें। जो भी तरीका अपनायें उसको बहुत ही प्यार और दुलार से आगे बढ़ाने की कोशिश करें। डब्ल्यू एच ओ (WHO) की एक रिपोर्ट के मुताबिक बच्चों के मोबाइल देखने का समय 24 घंटे में सिर्फ 2 घंटे का होना चाहिये ओर वो भी थोड़े अंतराल पर ।

दोस्तों सबसे पहले तो आप ये जानने की कोशिश करें कि आपका बच्चा मोबाइल फोन और टीवी का आदी है भी या नहीं। क्योंकि ज्यादातर बच्चों में मोबाइल का व्यसन नहीं होता है। इसके लिये आपको बस कुछ साधारण से स्टेप को फालो करना होता है। आइये आपको इसके बारे में बताते है।

Kids Mobile Phone and TV Addiction: बच्चे की लत का पता कैसे लगायें

आपका बच्चा मोबाइल फोन या टीवी का व्यसनी है या नहीं, इसको पता करने के लिये सबसे पहले आप अपने बच्चे को उसकी मांग के अनुसार मोबाइल या टीवी देखने की अनुमति दे दें, और फिर थोड़े समय के बाद उसको पार्क में ले जाकर घुमाने की बात बोल कर देखें। अगर आपका बच्चा पार्क में खेलने को मना करता है। तो उसको बोलें कि चलो मै आपके दोस्तों से मिलवाता हूँ और अगर इस पर भी आपका बच्चा मना करता है तो आप उसे घर में ही कुछ खेलने को बोलते हुये खुद खेलने के लिये बैठ जाइये। अगर इन सब गतिविधियों को करने के बावजूद भी आपका बच्चा मोबाइल फोन या टीवी को देखना नहीं छोड़ रहा है, तो आप समझ जाइये कि आपका बच्चा इसकी लत का शिकार हो चुका है या फिर बहुत जल्दी ही इसकी बुरी लत उसको लगने वाली है। अब यहाँ पर माता-पिता को चिन्ता करने की जरूरत है।

ज्यादातर बच्चे मोबाइल या टीवी इसलिये देखते हैं कि उनके पास करने के लिये कुछ भी नहीं है और ऐसे में अगर आप उनको कोई दूसरा आप्शन जैसे पार्क में खेलना या दोस्तों से मिलना आदि बोलते हैं। इस पर वो झट से मोबाइल फोन या टीवी को छोड़कर तैयार हो जाते हैं। ऐसे बच्चों को आप व्यसनी नहीं बोल सकते हैं। अब आइये जानते हैं कि अगर आपका बच्चा मोबाइल फोन की लत का शिकार हो चुका है तो आपको क्या करना चाहिये।

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: सहारा प्रमुख सुब्रत राय का निधन,अब क्या होगा आगे

Kids Mobile Phone and TV Addiction: आउटडोर गेम्स और शारीरिक गतिविधियों  के लिये प्रेरित करें।

बच्चों को आउटडोर गेम्स और शारीरिक गतिविधियों के लिये हर दिन प्रोत्साहित करें। उनको मोबाइल में अलग-अलग खेलों के वीडियो को दिखायें और फिर थोड़े समय के बाद उनसे भी वही खेल खेलने को कहें। क्योंकि इस समय बच्चा मोबाइल को ही अपना सबकुछ मानता है, तो उसमें की जाने वाली गतिविधियों को करने के लिये वह बहुत जल्दी ही तैयार हो जायेगा और फिर आप उसके शारीरिक गतिविधियों की समय सीमा धीरे-धीरे बढ़ाते रहें इससे बच्चा थक जायेगा और एक अच्छी नींद भी ले पायेगा और लगातार ऐसा करने रहने से आप देखेंगे कि आपके बच्चे की मोबाइल और टीवी की लत बहुत ही आसानी से छूट जायेगी और बच्चों के साथ खलने से आपकी सेहत भी अच्छी बनी रहेगी।

Kids Mobile Phone and TV Addiction

Kids Mobile Phone and TV Addiction: समय समय पर बच्चों को ज्यादा फोन के इस्तेमाल से होने वाली परेशानियों के बारे में बतायेंः

दोस्तों अपने बच्चों को समय समय पर ज्यादा फोन के इस्तेमाल से होने वाली परेशानियों के बारे में जरूर बतायें। आपको लगता होगा कि ये सब बच्चों को नहीं समझ में आयेगा। लेकिन ऐसा नहीं है। अगर आप बच्चों को उनके तरीके से समझाने की कोशिश करेंगे तो वो जरूर समझेंगे।

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Kids Mobile Phone and TV Addiction: बच्चों को बिल्कुल भी फोन ना देना भी गलतः

कुछ माता-पिता अपने बच्चों को बिल्कुल भी फोन नहीं देते हैं और वो अक्सर इस बात पर अपने आप को गौरवान्वित महसूस करते हैं जो कि बहुत ही गलत है। आपके ऐसा करने से आज के इस डिजिटल युग में आपका बच्चा हीन भावना का शिकार हो सकता है। बच्चे जब अपने दोस्तों को फोन के साथ देखते हैं तो उनके मन में भी इस बात की जिज्ञासा होगी कि उनको भी मोबाइल फोन मिलना चाहिये ऐसे में अगर आप घर में बिल्कुल भी फोन नहीं देंगे तो बच्चे घर के बाहर किसी दूसरे के फोन को देखने की कोशिश करेंगे। जो कि बिल्कुल भी अच्छी आदत नहीं है। ऐसे में कोई भी बच्चों की इस आदत का गलत फायदा उठा सकता है।

कई बार देखा जाता है कि बच्चे अगर खाना नहीं खाते हैं तो उनको मोबाइल दिखने का झांसा देकर खाना खिलाया जाता है। इससे बच्चे खाना तो खा लेते हैं लेकिन उसके बाद वो घंटों बैठकर मोबाइल या टीवी देखते हैं, जो कि बहुत गलत आदत है। ऐसे में आप पहले ही बच्चों से ये प्रामिस करवा लें कि जैसे ही उनका खाना खत्म हो जायेगा, उनको मोबाइल या टीवी देखना बंद करना होगा। ऐसे बच्चे बड़ी ही आसानी से मान जायेंगे, और उनका पेट भी भर जायेगा। लेकिन ऐसा करते वक्त आपको यह ध्यान रखना पडे़गा कि बच्चे को उचित मात्रा में ही खाना खिलाया जाये जो कि उसके सेहत के हिसाब से सही हो। इसके लिये आप समय-समय पर बच्चे का वजन भी चेक कर सकते हैं।

Kids Mobile Phone and TV Addiction: बच्चों के उबने पर क्या करें:

अगर बच्चा आप से कहता है कि वो बहुत ज्यादा उब रहा है या बोर हो रहा है, तो ऐसे में आप खुद बच्चे से पूछें कि वो क्या करना चाहता है या फिर आप उसको कुछ आप्शन दे सकते हैं जैसे कि पेंटिंग करना, कोई सैंड आर्ट बनाना, या फिर इसी तरीके से और भी कुछ। जिससे कि बच्चे की दिमागी क्षमता भी मजबूत होगी।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Deepfake AI: डीपफेक AI टेक्नोलाॅजी क्या है, आवाज और चेहरा आपका होगा, लेकिन ऐक्टिविटी किसी और की।

Emergency Alert Message on Mobile: क्या आपके मोबाइल पर भी आ रहा है सरकार की तरफ से अलर्ट मैसेज

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Section 144: धारा 144 के बारे में

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: अब यूपी में अपना रोजगार करने के लिये मिलेगा 25 लाख रूपये

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: सहारा प्रमुख सुब्रत राय का निधन,अब क्या होगा आगे:

Sahara Chief Subrat Roy Death

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: सहारा प्रमुख सुब्रत राय का निधन,अब क्या होगा आगे:

दोस्तोें एक ऐसा वक्त था जब सहारा ग्रुप के पास लंदन से न्यूयार्क तक होटल्स थे, खुद की एयरलाइन्स थी। आइपीएल (IPL) से लेकर फार्मूला वन की टीम थी। अच्छा खासा कान्स्ट्रक्शन कारोबार था, म्यूचुअल फन्ड (Mutual Fund) के साथ साथ जीवन बीमा और कई शहरों में अरबों की प्रापर्टी। पुणे में सबसे लग्जरी एम्बीवली टाउनशिप थी जिसमें एक से बढ़कर एक नामी लोगों का आशियाना था।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि सहारा के खुद के कई सारे न्यूज चैनल थे, खुद का अखबार था और इसके साथ साथ सहारा वन मोशन पिक्चर्स के नाम से फिल्में बनाने वाली उनकी खुद की कम्पनी भी थी और इन सब में देश भर में सहारा के लिये काम करने वाले हजारों कर्मचारी थे] लेकिन जब 14 नवम्बर 2023 को सहारा ग्रुप के मालिक सुब्रत राय के निधन की खबर आयी तो अब सहारा समूह की स्थिति पहले से काफी अलग है। सहारा ग्रुप अपनी कई सम्पत्तियों को बेंच चुका है। अब सुब्रत राय की मौत के बाद उनकी विरासत को लेकर चर्चा का माहौल गरम है क्योंकि उन्होंने किसी को भी अपना उत्तराधिकारी नहीं चुना था।
लेकिन इन सब से कहीं ज्यादा देशभर में सहारा के लाखों निवेशकों को ये चिन्ता सता रही है कि सहारा समूह में फंसे उनके पैसे का अब क्या होगा, कहीं ये पैसा डूब तो नहीं जायेगा। इन्हीं सब सवालों के जवाब विस्तार से आपको इस पोस्ट में मिलने वाले हैं।

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: कौन थे सुब्रत रायः

सुब्रत राय का जन्म 10 जून 1948 को बिहार के अररिया में हुआ, उन्होंने तकनीकि डिप्लोमा किया था, शुरूआत में सुब्रत राय अपने स्कूटर पर गोरखपुर में नमकीन और स्नैक्स बेंचा करते थे। इसके बाद 1978 में इन्होंने एक चिटफण्ड कम्पनी बनायी जिसके माध्यम से ये मार्केट में उतर गये। इसके माध्यम से निवेशकों का पैसा दुगुना या तिगुना करने जैसी स्कीमों के चलते कई सारे छोटे बड़े निवेशक इनके साथ आ गये और फिर इन्होंने सहारा की शुरूआत की। राय ने रिक्शा वालों, फेरी वालों और छोटे व्यापारियों सहित लगभग 3 करोड़ लोगों से उधार लिये गये पैसे पर अपना कारोबार खड़ा किया था।

Sahara Chief Subrat Roy Death

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: सुब्रत राय का कारोबारी साम्राज्य:

सहारा श्री सुब्रत राय का कारोबारी साम्राज्य एयरलाइन्स से लेकर प्रापर्टी, रियल स्टेट, मीडिया, फिल्म, मनोरंजन और हेल्थ केयर बिजनेस तक फैला हुआ था। जब सहारा समूह अपने चरम पर था उस समय सहारा के पास काम करने वाले लगभग 12 लाख कर्मचारी थे और लगभग 5000 छोटे बड़े संस्थान थे। एक अनुमान के मुताबिक सहारा का कारोबारी साम्राज्य डेढ़ लाख करोड़ रूपये के आस पास का था। आपको जानकार यह हैरानी होगी कि भारतीय रेलवे के बाद भारत में इस समूह को सबसे बड़ा नौकरी देने वाला संस्थान कहा जाता था। ऐसे समय में सहारा श्री सुब्रत राय का जलवा इस कदर था कि बड़े से बड़े नेता और फिल्मी सितारे अक्सर इनके साथ नजर आते थे। लेकिन आपको बता दें कि सहारा जितनी तेजी से इस मुकाम पर पहुँचा था, उस से दुगुनी तेजी से अर्श से फर्श पर आ गया।

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: किस गलती के चलते सहारा का विराट साम्राज्य ढ़ह गयाः

एक समय में सहारा ग्रुप का कारोबार लगभग डेढ़ लाख करोड़ रूपये का था, लेकिन ऐसी कौन सी गलती हुयी जिसकी वजह से ये पूरा साम्राज्य बिखर गया। अब आप इसको गलती मानें या गलत कारोबार ये आप पर निर्भर करता है। दरअसल सुब्रत राय को 2014 में शेयर मार्केट की रेग्युलेटरी कम्पनी सेबी के साथ एक विवाद में कोर्ट मे पेश ना होने पर सुप्रीम कोर्ट ने जेल भेज दिया था। शेयर मार्केट की रेग्युलेटरी कम्पनी सेबी ने बताया कि सहारा ने छोटे जमाकर्ताओं से गलत तरीके से 20 हजार करोड़ रूपये जुटाये हैं जिसे वापस किया जाना चाहिये, जबकि सहारा ग्रुप का तर्क था कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है। इस मामले में सुब्रत राय को 2 साल बाद जमानत तो मिल गयी लेकिन इसके बाद भी वो कोर्ट कचहरी का चक्कर काटते नजर आते रहे।

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: एक आईपीओ (IPO) जिसने सहारा साम्राज्य को घ्वस्त कर दियाः

सुब्रत राय ने अपनी कम्पनी को शेयर मार्केट में सूचीबद्व कराने की योजना बनाई, ताकि बड़े पैमाने पर लोगों से पैसा इकट्ठा करके अपने कारोबार को और बढ़ाया जा सके। ये बात 30 सितम्बर 2009 की है जब सहारा ग्रुप की एक कम्पनी सहारा प्राइम सिटी ने अपने आईपीओ (IPO) को शेयर मार्केट में लिस्टिंग के लिये सेबी के पास एक ड्राफ्ट प्रास्पेक्ट्स (DRHP) Draft Red Herring Prospectus भेजा, ये एक तरह का डाक्यूमेंट होता है जिसमें उस कंपनी और उसके कारोबार के बारे में सारी जानकारी दर्ज होती है। इसमें यह भी बताया जाता है कि कम्पनी का जुटाया गया फण्ड कहाँ से आया है और आगे भी कम्पनी के काम काज करने का स्वरूप क्या होगा। ये दस्तावेज सेबी के साथ साथ कम्पनी रजिस्ट्रार और स्टाक एक्सचेंज के पास भी जाता है। जब सेबी ने इस दस्तावेज को बारीकी से परखा तों इसमें सेबी को कई गड़बड़ियाँ देखने को मिलीं। इसी बीच सेबी को 25 दिसम्बर 2009 और 04 जनवरी 2010 को निवेशकों के जरिये दो शिकायतें मिलीं और इसमें यह बताया गया कि सहारा की कम्पनियाँ गलत तरीके से पैसा जुटा रही हैं। इसके बाद सेबी ने इन दोनों कम्पनियों की जाँच की तो यह पाया गया कि सहारा इंडिया रियल इस्टेट काॅपरेशन लिमिटेड और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट काॅपरेशन लिमिटेड ने OFCD के माध्यम से करीब ढ़ाई करोड़ निवेशकों से 24 हजार करोड़ रूपये जुटाये हैं जो कि सेबी के नियमों के मुताबिक गलत था। सेबी ने बताया कि सहारा की इन दोनो कम्पनियों ने ?OFCD के माध्यम से पैसा जुटाने के पहले सेबी की तरफ से ना तो कोई जानकारी दी और ना ही कोई अनुमति ली। साथ ही सेबी ने इन दोनो कम्पनियों को कहा कि तत्काल प्रभाव से निवेशकों से पैसा जुटाना बंद करने के साथ साथ 15 प्रतिशत ब्याज के साथ निवेशकों का पैसा वापस करने की प्रक्रिया शुरू करें। लेकिन सहारा ने इस फैसले को ना मानते हुये सेबी के आदेश के खिलाफ प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण Securities Appellate Tribunal (SAT) में अपील दर्ज की। लेकिन यहाँ न्यायालय की तरफ से भी सेबी के आदेश को सही ठहराते हुये सहारा की दोनो कम्पनियों को लगभग 3 करोड़ निवेशकों के पैसे लौटाने को कहा। इस पर सहारा समूह ने 2012 में सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, इस पर भी सर्वाेच्च न्यायालय ने सहारा को 15 प्रतिशत ब्याज समेत निवेशकों के 24 हजार करोड़ रूपये 3 महीने में सेबी में जमा कराने का आदेश दिया लेकिन सहारा 3 महीने में निवेशकों के पैसे लौटाने में नाकाम रहा।

Sahara Chief Subrat Roy Death

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: जब सहारा ने सेबी को भेजे 128 ट्रकः

जब सेबी ने सहारा को सभी निवेशकों की पूरी जानकारी देने को कहा जिससे कि निवेशकों को उनका पैसा सीधे उन तक पहुँचाया जा सके। इस पर सहारा ने कुल 128 ट्रक भरकर निवेशकों के दस्तावेज सेबी के मुंबई के कार्यालय में भेज दिया। इन ट्रकों में कुल 31000 बाॅक्स थे जिनमें कागजात भरे हुये थे। लेकिन जब सेबी नें इन कागजों की जाँच की तो पता चला कि इन कागजों में भी निवेशकों की पूरी जानकारी नहीं है। इसके बाद फिर सेबी ने सहारा पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया लेकिन 28 फरवरी 2014 को सहारा के मुखिया सुब्रत राय जेल भेज दिये गये और सहारा समूह की कई सम्पत्त्यिों और बैंक अकाउन्ट्स को फ्रीज कर दिया गया। इस मामले में 2 साल बाद सुब्रत राय को जमानत मिल गई लेकिन तब से लेकर उनके निधन तक वो कानूनी झगड़े में फँसे रहे।

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: सहारा समूह की कुल सम्पत्तिः

साल 2015 में फोर्ब्स के मुताबिक सहारा समूह की कुल सम्पत्ति लगभग 83 हजार करोड़ रूपये थी लेकिन सहारा की आफिशियल वेबसाइट के मुताबिक सहारा प्रमुख के पास कुल 2 लाख साठ हजार करोड़ रूपये की निजी सम्पत्ति थी। उनके पास पूरे देश भर में लगभग 30 हजार 970 एकड़ जमीन है।

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: पूरा परिवार विदेश में रहता हैः

मीडिया रिपोटर्स के मुताबिक सहारा प्रमुख सुब्रत राय का पूरा परिवार विदेश में रहता है। उनकी पत्नी और दोनो बेटे सीमान्तु राय और सुशान्तु राय मेसेडोनिया में रहते हैं उनके पास उस देश की भी नागरिकता है। सुब्रत राय के अंतिम संस्कार में उनकी पत्नी स्वपना राय अपने पोते के साथ भारत आई थी।

Sahara Group Owner Subrat Roy Death: अब सुब्रत राय के कारोबार का क्या होगा

ऐसा माना जा रहा है कि सुब्रत राय के निधन के बाद उनका कारोबार उनके बेटे सम्भालेंगे, लेकिन सहारा प्रमुख ने इसका कोई भी उत्तराधिकारी नहीं चुना है। सुब्रत राय के परिवार में और भी लोग हैं जो भारत में रहकर अपना बिजनेस करते हैं तो ऐसे में यह कहना मुश्किल होगा कि सुब्रत राय के कारोबार को अब आग कौन लेकर जायेगा।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Deepfake AI: डीपफेक AI टेक्नोलाॅजी क्या है, आवाज और चेहरा आपका होगा, लेकिन ऐक्टिविटी किसी और की।

Emergency Alert Message on Mobile: क्या आपके मोबाइल पर भी आ रहा है सरकार की तरफ से अलर्ट मैसेज

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Section 144: धारा 144 के बारे में

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: अब यूपी में अपना रोजगार करने के लिये मिलेगा 25 लाख रूपये

WhatsApp Channel for All 2023: खुशखबरी, व्हाट्सएप्प चैनल बनाने का आप्शन सबके लिये खुल गया

WhatsApp Channel for All

WhatsApp Channel for All: खुशखबरी, व्हाट्सएप्प चैनल बनाने का आप्शन सबके लिये खुल गया

दोस्तों अगर आप भी एक सफलतम क्रियेटर बनना चाहते हैं और आनलाइन पैसे कमाना चाहते हैं तो ये मौका सिर्फ आपके लिये है। आज हम आपके लिये एक ऐसा तरीका लाये हैं जिसे अगर आज आप शुरू करते हैं तो भविष्य में आप इससे आनलाइन कमाई भी कर सकते हैं

आजकल हर कोई आनलाइन कुछ काम कर के एक्सट्रा इनकम कमाना चाहता है। ऐसे में अगर आप एक कदम आगे बढ़ाते हुये यूट्यूब, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफार्म पर अपना अकाउन्ट बना कर ये सोच रहे हैं कि आप यहाँ से अपनी कमाई का दूसरा जरिया निकाल सकते हैं तो शायद ये आपके लिये बहुत ही मुश्किल होगा। परन्तु ये नामुमकिन बिल्कुल नहीं है। अगर आप मेहनत करते हैं तो आप ऐसे प्लेटफार्म से जरूर पैसे कमा सकते हैं। लेकिन अब देखा जाये तो ऐसे प्लेटफार्म पर बहुत ज्यादा भीड़ हो चुकी है और अगर आपको यहाँ से पैसे कमाने हैं, तो आपको एक अच्छा कन्टेंट बनाना पड़ेेगा, जो कि बाकी सारे कन्टेंट से कुछ हटके होगा।

WhatsApp Channel for All

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

WhatsApp Channel Feature: अब व्हाट्सएप्प पर भी यूट्यूब के जैसे बनेंगे चैनल 

Wrong Transaction through UPI: गलती से यूपीआई से भेजे गये पैसे तुरंत वापस पायें

WhatsApp Channel for All: अपनी दिनचर्या लोगों से शेयर करें

अब ऐसे में अगर मैं आपसे कहूँ कि एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिस पर आप अपना चैनल बनाकर अगर सिर्फ अपनी दिनचर्या को शेयर करते हैं तो आने वाले समय में इस काम के लिये भी आनलाइन आपको पैसे मिलने वाले हैं, और इस प्लेटफार्म की सबसे अच्छी बात तो यह है कि अभी इसके बारे में बहुत कम ही लोगों को जानकारी है।

WhatsApp Channel for All: व्हाट्सएप्प का नया फीचर लांच

दोस्तों व्हाट्सएप्प ने अपने प्लेटफार्म पर एक नया फीचर लांच किया है। जिसके माध्यम से आप अपने ग्रुप, समूह, कंपनी, बिजिनेस, जगह या अपना व्यक्तिगत चैनल बना सकते हैं और इस चैनल के माध्यम से एक साथ में बहुत सारे लोगों को उसके बारे में अपडेट दे सकते हैं। संदेश के साथ ही आप इसमें फोटो और वीडियो भी साझा कर सकते हैं।

WhatsApp Channel for All

WhatsApp Channel for All: व्हाट्सएप्प चैनल कैसे बनायें

शुरूआत में यह फीचर कुछ वेरिफाइड व्हाट्सएप्प, बालीवुड सेलीब्रिटी, क्रिकेटर्स और जाने माने लोगों के लिये के लिये खोला गया था। लेकिन अब आप सभी को अपना चैनल बनाने के लिये आप्शन मिल चुका है। आपके लिये बता दें कि पहले जिस जगह से आप अपना स्टेटस अपडेट करते थे। अब उसी को बदलकर अपडेट्स (Updates) का नाम दिया गया है। इस पर क्लिक करने के बाद आपको प्लस (+) का निशान मिलेगा जिस पर क्लिक करके आप अपना चैनल बना सकते हैं। अगर आपको अभी भी प्लस के निशान पर क्लिक करने के बाद क्रियेट चैनल (Create Channel) का टैब नहीं मिल रहा है तो आप समय समय पर चेक करते रहें, बहुत जल्द ही ये आप्शन आपके व्हाट्सएप्प में भी मिल जायेगा।

WhatsApp Channel for All: व्हाट्सएप्प का मोनेाइजेशन फीचर

दोस्तों व्हाट्सएप्प के इस नये फीचर के लांच होने के बाद लोगों का यह मानना है कि आने वाले समय मेें व्हाट्सएप्प चैनल के अन्दर ऐड मोनेटाइजेशन का फीचर भी आयेगा जिससे आप यूट्यूब चैनल के जैसे ही व्हाट्सएप्प चैनल से भी पैसे कमा सकते हैं। तो अगर आपको लगता है कि आपके अन्दर भी कोई ऐसी खास बात है जो आपको दुनिया से अलग करती है तो आज ही आप अपना व्हाट्सएप्प चैनल बनायें और उसके माध्यम से लोगों को अपनी छुपी हुयी प्रतिभा के बारे में जरूर बतायें।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Section 144: धारा 144 के बारे में

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

 

.

Chief Minister Young Self-Employment Scheme:अब यूपी में अपना रोजगार करने के लिये मिलेगा 25 लाख रूपये

Chief Minister Young Self-Employment Scheme

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: अब यूपी में अपना रोजगार करने के लिये मिलेगा 25 लाख रूपये

दोस्तों उत्तर प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को अब अपना खुद का बिजिनेस शुरू करना बहुत ही आसान हो गया है। अक्सर युवाओं के पास अच्छा हुनर होने के बावजूद भी आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण वो अपना खुद का काम शुरू नहीं कर पाते हैं।

Chief Minister Young Self-Employment Scheme

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: कुल ऋण धनराशि का 25 प्रतिशत अनुदान

इसी को देखते हुये उत्तर प्रदेश सरकार ने युवाओं की मदद करने के लिये मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना की शुरूआत की है। इस योजना के तहत प्रदेश के शिक्षित बेरोजगार युवाओं को स्वरोजगार का अवसर प्रदान किया जाता है। इस योजना के अन्तर्गत युवाओें को किसी भी उद्योग को शुरू करने के लिये 25 लाख रूपये तक एवं सेवा क्षेत्र में कार्य करने के लिये 10 लाख रूपये तक का ऋण बैंकों के माध्यम से उपलब्ध कराया जाता है। इतना ही नहीं किसी भी उद्यम के शुरू होने के 2 वर्ष तक सफल संचालन के बाद कुल ऋण धनराशि का 25 प्रतिशत अनुदान के रूप में परिवर्तित हो जाता है।

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: योजना की पात्रता एवं शर्तें

इस योजना मेें आवेदन करने हेतु कुछ पात्रता एवं शर्तें भी हैं, जैसे कि आवेदन करने वाले युवा की उम्र 18 से 40 वर्ष के अन्दर होनी चाहिये। वह कमसे कम दसवीं पास होना चाहिये और किसी भी बैंक की तरफ से दिवालिया ना घोषित किया गया हो।

Chief Minister Young Self-Employment Scheme

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: आवेदन कैसे करें

इस योजना में आवेदन करने हेतु सबसे पहले आपको diupmsme.upsdc.gov.in इस वेबसाइट पर जाना होगा। यहाँ पर थोड़ा सा नीचे स्क्राल कर के देखेंगे तो आपको मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना का टैब दिखाई देगा। यहाँ से आप अप्लाई बटन पर क्लिक करके सभी जरूरी जानकारियों को भरकर आवेदन कर सकते हैं। 

Chief Minister Young Self-Employment Scheme: चयन प्रक्रिया

इसके तहत लाभार्थी का चयन जिला मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता में गठित, जिला कार्य दल समिति द्वारा साक्षात्कार के माध्यम से किया जाता है।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Toll Tax Fee Receipt: टोल टैक्स की रसीद कभी मत फेंकना

Wrong Transaction through UPI: गलती से यूपीआई से भेजे गये पैसे तुरंत वापस पायें

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

Section 144: धारा 144 के बारे में

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

.

Toll Tax Fee Receipt: टोल टैक्स की रसीद कभी मत फेंकना

Toll Tax Fee Receipt

Toll Tax Fee Receipt: टोल टैक्स की रसीद कभी मत फेंकना

दोस्तों अगर आप कभी भी राष्ट्रीय राजमार्ग (National Highway) पर सफर करते हैं तो आपको हाइवे पर लगे टोल प्लाजा से भी गुजरना पड़ता होगा। और आप जब भी अपनी गाड़ी को टोल प्लाजा से लेकर गुजरते हो तो आपको टोल टैक्स के रूप में कुछ फीस भरनी पड़ती है। आप इस फीस को या तो कैश में या तो अपने फास्टैग अकाउन्ट से कटवा सकते हैं।

Toll Tax Fee Receipt: टोल रसीद का क्या इस्तेमाल

यहाँ पर हम आपको बताना चाहते हैं कि जब आप टोल टैक्स की फीस भरते हैं, तो टोल कलेक्शन एजेंसी का आपरेटर आपको उसकी एक रसीद देता है। और आपको लगता है कि अब तो टोल प्लाजा पार कर चुके हैं, अब इस रसीद का क्या काम। अगर आप ऐसा सोचते हैं तो आप बिल्कुल गलत सोचते हैं। ये रसीद आपके बहुत काम आ सकती है। आप इसे बिल्कुल ना फेकें, बल्कि इसको कहीं भी सुरक्षित जगह पर रख दें। आइये आपको बताते हैं कि टोल टैक्स की ये रसीद आपके कितने काम आ सकती है।

Toll Tax Fee Receipt

Toll Tax Fee Receipt: पेट्रोल से एम्बुलेन्स तक सारी सुविधायें

दोस्तों अगर आप ध्यान से देखेंगे कि तो आपको इस रसीद पर टोल प्लाजा के आफिस का नम्बर लिखा हुआ मिलेगा। किसी भी इमरजेन्सी के समय आप उस टोल प्लाजा के आफिस में फोन करके मदद माँग सकते हैं। मान लीजिये आपकी गाड़ी का टायर पंचर हो जाता है या कोई भी मेडिकल इमरजेन्सी आ जाती है और आप किसी अनजान हाइवे पर सफर कर रहे हैं तो ये टोल टैक्स की रसीद ही आपका साथ दे सकती है।

Toll Tax Fee Receipt: 5 मिनट के अन्दर एम्बुलेन्स की सुविधा

चूँकि ये टोल प्लाजा 24 घण्टे और सप्ताह के सातों दिन खुले रहते है, इसलिये आप यहाँ से किसी भी समय मदद माँग सकते हैं। अगर बीच रास्ते में आपकी गाड़ी का पेट्रोल या डीजल खत्म हो गया है तो इस रसीद के जरिये आप मदद माँग सकते हैं और अपनी गाड़ी को फिर से रिफ्यूल करा सकते हैं या किसी विषम परिस्थिति में आप अपनी गाड़ी को टो करा के उचित स्थान पर ले जा सकते हैं। आपकी जानकारी के लिये बता दें कि किसी भी मेडिकल इमरजेंसी के लिये हर टोल प्लाजा पर एक एम्बुलेन्स की सुविधा अवश्य होती है, जो मुश्किल समय में 5 से 10 मिनट के अन्दर आपके पास तक पहुँच सकती है अगर आप समय रहते टोल एजेन्सी के कार्यालय में फोन कर देते हैं।

Toll Tax Fee Receipt

Toll Tax Fee Receipt: आल इंडिया हेल्पलाइन नम्बर 1033

एक अन्य जानकारी के तहत आप लोगों को इस बात से जागरूक करना चाहता हूँ कि पूरे भारत में आप कहीं भी, किसी भी हाइवे पर सफर कर रहे हैं, तो 1033 हेल्पलाइन पर फोन करके आप मदद माँग सकते हैं। इस हेल्पलाइन की सुविधा भारत सरकार के उपक्रम सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के द्वारा हाइवे पर चलने वाले यात्रियों के लिये शुरू की गयी है। 1033 पर फोन कर के आप किसी भी समय अपनी कम्प्लेंट दर्ज करा सकते हैं। इसके तहत इमरजेंसी सुविधायें आप तक तुरंत ही पहुँचायी जाती हैं।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Wrong Transaction through UPI: गलती से यूपीआई से भेजे गये पैसे तुरंत वापस पायें

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

Know Your Mobile Number: आपके नाम पर कितने सिम कार्ड एक्टिव हैं

Section 144: धारा 144 के बारे में

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

 

.

Wrong Transaction through UPI: गलती से यूपीआई से भेजे गये पैसे तुरंत वापस पायें।

Wrong Transaction through UPI

Wrong Transaction through UPI: गलती से यूपीआई से भेजे गये पैसे तुरंत वापस पायें।

दोस्तों आजकल आनलाइन पैसे भेजने का जमाना आ गया है, जिसकी मदत से आप चंद मिनटों में ही हजारों किलोमीटर दूर किसी को भी उसके बैंक खाते में रूपये भेज सकते हैं। इस सुविधा से जीवन बहुत ही आसान हो गया है अगर किसी को पैसों की जरूरत है तो आप कुछ ही सेकेण्डों में दुनिया के किसी भी कोने में रहकर उसकी मदत कर सकते हैं। लेकिन हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, अगर यही पैसे जरूरत के वक्त जल्दबाजी में गलत खाते में ट्रांसफर हो जायें तो हम तुरंत घबरा जाते हैं कि अब तो पैसा वापस नहीं मिलने वाला, और अगर कहीं पर शिकायत दर्ज करने भी जाते हैं तो सबसे पहले यही सुनने को मिलता है कि आपको सावधानी से पैसे भेजने चाहिये थे। अब इसमें पैसा वापस मिलना बहुत ही मुश्किल है।

Wrong Transaction through UPI: ऐसे करें आनलाइन शिकायत

दोस्तों आपकी इसी समस्या का समाधान आज हम आपके लिये खोजकर लाये हैं। सबसे पहली बात कि आनलाइन पैसा भेजते समय आपको जरूरी चीजों को दो से तीन बार जाँच लेना चाहिये इसमें मात्र 1 से 2 मिनट का समय लगता है और ऐसा करने के बाद अगर आप किसी को भी पैसा भेजते हैं तो निश्चित ही वह सही खाते में जायेगा और आपको किसी भी तरह की परेशानी भी नहीं होगी।

Wrong Transaction through UPI: गलत लेन देन पर घबराने की जरूरत नहीं

लेकिन अगर कभी भी आपसे ऐसी गलती हो जाती है कि यूपीआई लेनदेन करते समय आपके खाते से किसी गलत खाते में पैसे ट्रांसफर हो जाते हैं तो अब इसमें आपको घबराने की जरूरत नहीं है। आइये आपको बताते हैं कि इसकी शिकायत कहाँ पर करने से आपको आपके पैसे आसानी से मिल जायेंगे।

Wrong Transaction through UPI: आनलाइन शिकायत करने का तरीका

इसके लिये आपको सबसे पहले npci.org.in इस वेबसाइट पर जाना होगा। इस वेबसाइट का इंटरफेस कुछ इस तरह का दिखेगा।

Wrong Transaction through UPI

अब आपको इस वेबसाइट के सबसे दाहिनी तरफ Get in touch वाले टैब को क्लिक करना होगा इसमें क्लिक करने के बाद आपको दूसरा आप्शन UPI Complaint का दिखेगा।

Wrong Transaction through UPIआपको इस पर क्लिक करना है इसके बाद जो पेज खुलेगा उसको थोड़ा सा स्क्राॅल करके जब आप नीचे देखोगे तो आपको वहाँ पर Transaction का टैब दिखाई देगा।

Wrong Transaction through UPI

बस उस पर क्लिक करके आपको अपने गलती से हुये ट्रांजेक्शन की जानकारी सही सही भर देनी है और सबमिट बटन पर क्लिक कर देना है। अब इसके बाद आपको कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। आपका बैंक खुद पैसा आपके खाते में रिफण्ड करेगा। और 100 प्रतिशत आपके पैसे आपको मिल जायेंगे।

अगर इस से जुड़ी कोई भी समस्या आपको होती है तो आप कमेन्ट सेक्शन में हमें बता सकते हैं। हम आपको मदत करने की पूरी कोशिश करेंगे।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

Section 144: धारा 144 के बारे में

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

 

.

Indian Railway Tatkal Ticket Tips: भारतीय रेलवे तत्काल टिकट टिप्स

Indian Railway Tatkal Ticket Tips

Indian Railway Tatkal Ticket Tips: भारतीय रेलवे तत्काल टिकट टिप्स

भारत में रेलवे से हर दिन करोड़ों लोग सफर करते हैं और सफर करने से पहले शुरू होता है कन्फर्म टिकट पाने का सिलसिला। कन्फर्म टिकट ना मिल पाने से अंतिम समय में तत्काल टिकट का ही सहारा रह जाता है। अब ऐसे में अगर आपके पास एक अच्छे इंटरनेट कनेक्शन के साथ साथ कम्प्यूटर पर टिकट बुक करने की अच्छी स्किल है तभी आप तत्काल टिकट बुक कर पाने में सफल हो पाते हैं।
दोस्तों आज हम आपलोगों से एक ऐसे तरीके को शेयर करने जा रहे हैं जिससे आप चंद मिनटों में तत्काल टिकट बुक कर सकते हैं और कन्फर्म सीट प्राप्त कर सकते हैं।

Indian Railway Tatkal Ticket Tips: तत्काल टिकट बुक करने का समयः

सबसे पहले आपको बताते हैं कि तत्काल टिकट बुकिंग करने का समय कब से शुरू होता है। आइआरसीटीसी की आधिकारिक वेबसाइट या रेलवे स्टेशन पर जाकर ही आप तत्काल का टिकट बुक कर सकते है। एसी (AC) कैटेगरी में तत्काल टिकट बुक करने का नया बुकिंग समय सुबह 10 बजे से है जबकि स्लीपर (Sleeper) कैटेगरी के लिये यह समय सुबह 11 बजे से शुरू होता है।

Indian Railway Tatkal Ticket Tips

Indian Railway Tatkal Ticket Tips: चंद मिनटों में बुक होगा कन्फर्म तत्काल टिकटः

दोस्तों आप जब भी तत्काल टिकट बुक करने आइआरसीटीसी की आधिकारिक वेबसाइट (www.irctc.co.in) पर जाते हैं तो आपका सबसे ज्यादा समय पैसेन्जर का विवरण भरने में जाता है जिसमें आपको पैसेन्जर का नाम, आयु, कैटेगरी, सीट की जानकारी भरनी पड़ती है ऐसे मेें अगर 2 से 3 पैसेन्जर का विवरण भरना पड़े तो आपका सारा समय तो विवरण भरने में चला जाता है और तब तक टिकट खत्म हो जाता है।

Indian Railway Tatkal Ticket Tips: पैसेन्जर का विवरण भरने का झंझट खत्मः

इसलिये अगर ऐसा कोई तरीका हो जिससे ये सारी जानकारी पहले से भरकर सुरक्षित कर लें तो कन्फर्म तत्काल टिकट मिलने की सम्भावना बहुत ही बढ़ जाती है। इसके लिये आज हम आपके लिये एक ऐसा टूल लेकर आये हैं जिसकी मदत से आपको टिकट भरते समय इन सारी जानकारियों को भरने से छुटकारा मिल जायेगा और आप आसानी से टिकट बुक कर सकते हैं।

Indian Railway Tatkal Ticket Tips

Indian Railway Tatkal Ticket Tips: ब्राउजर में जोड़ें एक एक्सटेंशन

इसके लिये आपको तत्काल टिकट बुक करने से पहले अपने इंटरनेट के ब्राउजर में एक एक्सटेंशन को जोड़ना पड़ेगा। इस एक्सटेंशन का नाम है IRCTC Tatkal Automation Tool. इस छोटे से टूल की मदत से आप पैसेन्जर की सारी जानकारी तत्काल टिकट बुक करने से पहले भर पायेंगे। आपको बस टिकट बुक करते समय लिस्ट में से पैसेन्जर को सेलेक्ट करना होगा और उस पैसेन्जर की सारी जानकारी अपने आप भर जायेगी। ये टूल बिल्कुल मुफ्त है। बस अस टूल में आपको पैसेन्जर की सारी डीटेल्स पहले से भरकर सुरक्षित रखनी होगी।

Indian Railway Tatkal Ticket Tips

Indian Railway Tatkal Ticket Tips: सीधे पेमेन्ट करके पायें तत्काल टिकटः

ये एक्सटेंशन इतना काम का है कि आप सोच भी नहीं सकते। लागिन करने के बाद, चूँकि सारा विवरण पहले से भरा होता है इसलिये ये आपको सीधे बुकिंग कन्फर्मेशन पेज पर पहुँचा देता है और फिर आपको अपनी बुकिंग सावधानी से देखकर ओके करना रहेगा। बस इसके बाद आप पेमेन्ट करके अपना तत्काल टिकट प्राप्त कर सकते हैं।

किसी भी अन्य जानकारी के लिये आप हमें कमेन्ट सेक्शन में बता सकते हैं आपकी हर सम्भव मदत की जायेगी।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

Section 144: धारा 144 के बारे में

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Know Your Mobile Number: आपके नाम पर कितने सिम कार्ड एक्टिव हैं

Know Your Mobile Number

Know Your Mobile Number: आपके नाम पर कितने सिम कार्ड हैं

दोस्तों जब भी आपको अपने आधार कार्ड की स्व सत्यापित प्रति किसी जगह पर जमा करनी होती है तो आपके मन में हमेशा एक सवाल जरूर आता है कि कहीं इसका गलत इस्तेमाल करके कोई इंसान मेरे नाम से किसी भी तरह की धोखाधड़ी ना करे, या फिर आपके आधार कार्ड की प्रति का इस्तेमाल करके कोई नया सिम कार्ड ना जारी करवा ले। इसी तरह के अलग अलग सवाल आपके मन में चलते हैं लेकिन चूँकि हमको अपना काम करवाना रहता है तो हम विश्वास के तौर पर अपने आधार की स्व सत्यापित प्रति उस जगह पर जमा कर देते हैं और फिर थोड़े समय के बाद उसे भूल भी जाते हैं। वैसे इस तरह की धोखाधड़ी हाल के दिनों में बहुत ज्यादा बढ़ गयी है इसलिये अब आपको और भी सतर्क रहने की जरूरत है।

Know Your Mobile Number: क्या आपको पता है कि आपके नाम पर कितने सिम कार्ड हैं

इसी कड़ी में आज हम आपको एक ऐसा तरीका बताने जा रहे हैं जिससे आप यह पता लगा सकते हैं कि आपके आधार कार्ड या आपके मोबाइल नम्बर पर कितने सिम कार्ड जारी किये गये हैं और इतना ही नहीं अगर आपको लगता है कि आपके नम्बर पर कोई भी अनजान सिम कार्ड एक्टिवेट है तो आप तुरंत ही उस पर रिपोर्ट कर के उसे बंद करवाने की प्रक्रिया भी करवा सकते हैं।

Know Your Mobile Number
आइये जानते हैं कि किस प्रक्रिया के तहत हम अपने मोबाइल नम्बर पर एक्टिव दूसरे सिम कार्ड का पता लगा सकते हैं।

Know Your Mobile Number: अपना नम्बर जानने की आनलाइन प्रक्रिया

इसके लिये सबसे पहले आपको अपने मोबाइल के क्रोम ब्राउजर में या गूगल के सेक्शन में जाना होगा और वहाँ पर एड्रेस बार के अंदर टाइप करना होगा www.sancharsaathi.gov.in यह वेबसाइट भारत सरकार के दूरसंचार विभाग के द्वारा आपरेट की जाती है और आपको टेलीकाॅम से जुड़ी अहम जानकारियाँ उपलब्ध कराती है। इस वेबसाइट को खोलने के बाद आपको कुछ इस तरह का इंटरफेस दिखाई देगा।

Know Your Mobile Numberअब आपको थोड़ा सा नीचे स्क्राल कर के जाना होगा जहाँ पर आपको लिखा मिलेगा Know Your Mobile Connections (अपने मोबाइल कनेक्शन जानें)। इस पर क्लिक करने के बाद आपको अगले पेज पर अपना मोबाइल नम्बर डालना होगा जिसके बारे में आप जानकारी करना चाहते हैं उसके नीचे आपको कैप्चा कोड (कोड पहले से दिया होगा) डालना होगा। जैसे ही आप कैप्चा कोड डाल कर वैलिडेट बटन पर क्लिक करेंगे, एक ओटीपी नम्बर आपके मोबाइल पर भेजा जायेगा ताकि यह पुष्टि हो सके कि जानकारी प्राप्त करते वाला व्यक्ति स्वयं ही उस मोबाइल नम्बर का मालिक है।

Know Your Mobile Number

Know Your Mobile Number: गलत नम्बर को तुरंत बंद करा सकते हैं

अब इसके बाद जैसे ही आप ओटीपी नम्बर दर्ज करके लाॅगिन बटन पर क्लिक करेंगे, आपके सामने उन नम्बरों की लिस्ट आ जायेगी जो आपके मोबाइल नम्बर और आधार कार्ड से लिंक हैं। अब अगर आपको लगता है कि इनमें से कोई भी नम्बर ऐसा है जो आपकी जानकारी में नहीं है तो आप उस नम्बर को टिक करके उस पर रिपोर्ट कर सकते हैं। इसके बाद एक वेरिफिकेशन प्रक्रिया के पूर्ण होने के बाद 24 घंटे में वो सिम कार्ड डिएक्टिवेट कर दिया जायेगा।

Know Your Mobile Number

Know Your Mobile Number: ऐसे बचें किसी भी फ्राड से

इस से जुड़ी किसी भी समस्या के लिये आप हमें कमेंट सेक्शन में बता सकते हैं। आपकी हर संभव मदत की जायेगी।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

Section 144: धारा 144 के बारे में

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: सहारा में डूबा हुआ पैसा पाने के लिये सरकार की तरफ से रिफण्ड पोर्टल शुरू

Best Yogasan Coach Award: हरियाणा की बेटी, कोमल वर्मा को मिला बेस्ट योगासन कोच का अवार्ड

Best Yogasan Coach Award

Best Yogasan Coach Award: हरियाणा की बेटी, कोमल वर्मा को मिला बेस्ट योगासन कोच का अवार्ड

हरियाणा के सिरसा जिले की रहने वाली कोमल वर्मा को बेस्ट योगासन कोच का अवार्ड दिया गया है। यह अवार्ड पूरे भारत में महिला वर्ग में तीन बेटियों को साल 2023 के लिये योगा फेडरेशन इंडिया की तरफ से दिया गया है। जिसमें से कोमल वर्मा, सिरसा हरियाणा से, अर्चना सिंह, उत्तर प्रदेश से एवं सुरभि सिंह, राजस्थान से हैं।

Best Yogasan Coach Award: सिरसा की कोमल वर्मा ने बहुत ही कम समय में प्राप्त की उपलब्धिः

पूरे भारत से तीन बेटियों को दिये गये इस अवार्ड में कोमल वर्मा ने इस उपलब्धि को मात्र डेढ़ साल की कड़ी मेहनत से प्राप्त किया है। जबकि कोमल वर्मा के परिवार में खेल से जुड़ी हुयी कोई भी पृष्ठभूमि नहीं है।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

Best Yogasan Coach Award: कोमल वर्मा के प्रशिक्षण में कई खिलाड़ियों ने जीते हैं गोल्ड मेडलः

पिछले करीब डेढ़ साल से कोमल वर्मा देश के योगा खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दे रही हैं। देश में हुये खेलो इंडिया यूथ गेम्स में कोमल वर्मा के द्वारा प्रशिक्षित खिलाड़ियों ने 5 स्वर्ण और 5 कांस्य पदक जीते थे। इसके साथ ही गोवा में सम्पन्न हुये खेलों में कोमल के द्वारा प्रशिक्षित खिलाड़ियों ने 2स्वर्ण, 5 कांस्य और 3 रजत पदक देश के लिये जीता था।

Best Yogasan Coach Award
Best Yogasan Coach Award: पिता हैं पेशे से शिक्षकः

कोमल वर्मा के पिता पेशे से शिक्षक हैं और माता गृहणी हैं। कोमल की 8वीं तक की पढ़ाई गाँव के ही स्कूल से हुयी है और उसके बाद 12 तक की पढ़ाई हिसार से करने के बाद दिल्ली से बीकाॅम में स्नातक किया है।

बचपन से ही चार्टेड अकाउंटेट बनने का सपना देखने वाली कोमल ने अपनी 12वीं की पढ़ाई के दौरान अन्य सीनियर के साथ मिलकर खेलना शुरू किया और बाद में कालेज में प्रवेश लेने के बाद कालेज प्रबंधन से मिलकर कालेज में भी एक योगा की टीम बना ली। कालेज के दौरान इंटर यूनिवर्सिटी खेलों में भी कोमल ने कई बार अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। इसके बाद वहाँ के शिक्षकों ने ही कोमल को योग में अपना करियर बनाने की सलाह दी। बाद में इनको हरियाणा में योगा खिलाड़ियोें को देश स्तर पर प्रशिक्षण देने के लिये बतौर कोच नियुक्त कर दिया गया।

कोमल वर्मा को 2023 का बेस्ट योगासन कोच का अवार्ड दिये जाने पर पूरा परिवार बहुत खुश है और लगातार बधाइयों का सिलसिला जारी है।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

Section 144: धारा 144 के बारे में

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव:

One Nation One Election

One Nation One Election: एक देश एक चुनाव:

वन नेशन वन इलेक्शन(एक देश एक चुनाव) क्या है

दोस्तों आजकल एक देश एक चुनाव के मुद्दे पर जगह जगह पर चर्चा चल रही है ऐसे में आपके लिये यह जानना जरूरी हो जाता है कि क्या है वन नेशन वन इलेक्शन। अगर वन नेशन वन इलेक्शन का बिल पास होता है और इस विषय पर कोई कानून बनता है तो इसके क्या फायदे और क्या नुकसान होंगें। इन सभी चीजों की जानकारी आज आपको इस लेख के माध्यम से मिलेगी।
आइये सबसे पहले जानते हैं कि आखिर ये वन नेशन वन इलेक्शन क्या है।

One Nation One Election: 18 से 22 सितम्बर 2023 के बीच संसद का विशेष सत्र

साल 2020 में नवम्बर के महीने में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने एक सम्मेलन को सम्बोधित करते हुये वन नेशन वन इलेेक्शन की बात कही थी। अब इस बात के लगभग तीन साल बाद 1 सितम्बर 2023 को सरकार ने एक इस मुद्दे को लेकर एक कमेटी गठित की है जिसका अध्यक्ष पूर्व राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द को बनाया गया है। सूत्रों की मानें तो 18 से 22 सितम्बर 2023 के बीच संसद के विशेष सत्र में इस विषय पर कोई बड़ा फैसला लिया जा सकता है। वन नेशन वन इलेक्शन का मुख्य मकसद यह है कि देश भर में सांसदों और विधायकों के चुनाव एक ही दिन और एक ही समय पर कराये जायें जिससे मतदाता एक ही समय में एक ही स्थान पर दो बार वोटिंग करके अपना सांसद और अपना विधायक दोनो ही चुन सकता है। इससे देश का बहुत पैसा बचेगा जो बार बार चुनाव की तैयारियों को करने में खर्च होता है। इससे आम आदमी का बहुत सा समय बचेगा साथ ही क्षेत्र के सांसदों और विधायकों को अपने क्षेत्र में विकास के कार्यों को करने के लिये अधिक समय मिलेगा।

One Nation One Election: आजादी के बाद सन् 1952, 1957 और 1962 में एक देश एक चुनाव

भारत में फिलहाल देश के लोकसभा और राज्यों के विधानसभा चुनाव अलग अलग समय पर होते हैं। आजादी के बाद सन् 1952, 1957 और 1962 में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ कराये गये थे परन्तु 1968 के बाद कई विधानसभाओं के समय से पहले भंग हो जाने के बाद और सन् 1970 में लोकसभा के भंग हो जाने के बाद से ये दोनो चुनाव अलग अलग समय पर होने लगे थे और एक देश एक चुनाव की परम्परा भी टूट गयी।

One Nation One Election

One Nation One Election: चुनाव में होने वाले खर्चाें में भी कमी आयेगी

एक देश एक चुनाव के समर्थकों का मानना है कि बार बार चुनाव के समय आचारसंहिता के लागू किये जाने से विकास कार्य अपने समय पर नहीं हो पाते हैं। जिससे देश में विकास की दर में भी कमी आती है। अगर पूरे देश में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ कराये जाते हैं तो इससे चुनाव में होने वाले खर्चाें में भी कमी आयेगी। इससे पहले वर्ष 1983 में भी चुनाव आयोग की सालाना रिपोर्ट में वन नेशन वन इलेक्शन की बात कही गयी थी। इसके साथ ही साल 1999 में न्यायमूर्ति बी0पी0 जीवनरेड्डी की अध्यक्षता में लाॅ कमीशन ने चुनाव कानूनों के सुधार पर अपनी 170वीं रिपोर्ट प्रस्तुत की थी जिसमें चुनाव कानूनों में सुधार के लिये जरूरी कदम के रूप में एक देश एक चुनाव का सुझाव दिया था।

जानकारों की मानें तो ऐसा होने से देश का करोड़ों रूपये बचाया जा सकता है और बाद में उन पैसों को देश के विकास के कार्याें में इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन ये सब मुमकिन हो पाना इतना आसान भी नहीं है क्योंकि विपक्ष इस मुद्दे पर एकजुट नहीं है। अब देखना ये है कि संसद के विशेष सत्र 18 से 22 सितम्बर 2023 के बीच इस मुद्दे पर सहमति बन पाती है या नहीं।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

Section 144: धारा 144 के बारे में

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023

GI (Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: सहारा में डूबा हुआ पैसा पाने के लिये सरकार की तरफ से रिफण्ड पोर्टल शुरू

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीका

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

G20 in INDIA 2023

G20 in INDIA 2023: क्या 3 दिनों तक बंद रहेगी दिल्ली

क्या है जी20ः
इस साल 2023 में भारत जी20 की अध्यक्षता कर रहा है, लेकिन क्या आपको पता है कि जी20 क्या है। आइये आपको बताते हैं।
जी20 का मतलब ग्रुप ऑफ 20, इसमें 19 देश और एक यूरोपियन यूनियन शामिल है। जिसमें देश विदेश के नेता गण उपस्थित होकर आने वाली आर्थिक समस्या, आतंकवाद, ग्लोबल वार्मिग आदि मुद्दों पर चर्चा करते हैं और सभी देश मिलकर इन सब परिस्थितियों से निपटने के लिये अपना अपना मत स्पष्ट करते हैं। इसमें भारत, आस्ट्रेलिया, जापान और चीन जैसे देश शामिल हैं।
G20 in INDIA 2023: राजधानी दिल्ली के प्रगति मैदान में 9 से 10 सितम्बर 2023 तक आयोजित
जी20 का गठन वर्ष 1999 में जर्मनी की राजधानी बर्लिन में हुआ था। प्रतिवर्ष जी20 की अध्यक्षता अलग अलग देश करता है। इसी कड़ी में इस बार जी20 की अध्यक्षता करने का गौरव भारत को प्राप्त हुआ है। राजधानी दिल्ली के प्रगति मैदान में 9 से 10 सितम्बर 2023 तक आयोजित होने वाले जी20 सम्मेलन की तैयारियाँ अपने आखिरी चरण में हैं। इसकी थीम बसुधैव कुटुम्बकम रखी गयी है जिसका मतलब एक धरती, एक परिवार, एक भविष्य से बताया गया है।

G20 in INDIA 2023

 

G20 in INDIA 2023: कौन कौन देश हो रहे हैं शामिल
राजधानी दिल्ली में 9 से 10 सितम्बर तक जी20 सम्मेलन के मद्देनजर सभी शैक्षणिक संस्थान, सरकारी और गैर सरकारी कार्यालय, केंद्र सरकार के कार्यालय, बैंक आदि बंद रहेंगे। इस सम्मेलन में इन देशों के नेता शामिल हो रहे हैं।
1. संयुक्त राज्य अमेरिका
2. ब्रिटेन
3. आस्ट्रेलिया
4. कनाडा
5. बांग्लादेश
6. चीन
7. फ्रांस
G20 in INDIA 2023: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन 7 से 10 सितम्बर तक भारत की यात्रा पर
इस बार जी20 शिखर सम्मेंलन में भाग लेने के लिये अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन 7 से 10 सितम्बर तक भारत की यात्रा पर रहेंगे। भारत देश के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है जब कोई अमेरिकी राष्ट्रपति इतने लम्बे समय के लिये भारत में रूककर विभिन्न वैश्विक मुद्दों से निपटने के लिये चर्चा करेगा।
G20 in INDIA 2023: ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक भी सम्मेलन में भाग लेंगे
इस खास मौके पर ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक भी सम्मेलन में भाग लेने के लिये भारत आ रहे हैं। खबरो के मुताबिक जी20 सम्मेलन के बाद अलग से एक द्विपक्षीय बैठक भारत के प्रधानमंत्री और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के बीच होगी। जिसमें काफी कुछ सम्भावनायें निकलकर आ रही है, लेकिन अभी इस बारे में कुछ भी कह पाना मुश्किल होगा।
G20 in INDIA 2023: 160 हवाई उड़ानें रद्द

जी20 शिखर सम्मेलन के चलते 8 से 10 सितम्बर के बीच कुल 160 हवाई उड़ानें रद्द कर दी गयी हैं। यह निर्णय राजधानी दिल्ली में यातायात प्रतिबंधों के कारण लिया गया है। इस समय इस सम्मेलन को और खास बनाने के लिये दिल्ली को सजाने संवारने का काम जोरों पर है। कई जगहों पर फब्वारे, मनमोहक कलाकृतियाँ और गमलों के फूलों से दिल्ली को पूरी तरह से सजाया जा रहा है ताकि दिल्ली की खूबसूरती की चर्चा दुनिया भर में हो।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Rakshabandhan 2023: महिलाओं के लिये योगी जी का खास तोहफा

बिग ब्रेकिंग न्यूजः चंद्रयान-3, चाँद की सतह सफलतापूर्वक उतरा। पूरी दुनिया में बजा भारत का डंका (23 अगस्त 2023)

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed: रूस का चंद्र मिशन लूना-25 फेलः चन्द्रमा से टकराया

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Rakshabandhan 2023 Date & Time: रक्षाबंधन 2023 के बारे में सारी जानकारी

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

बिग ब्रेकिंग न्यूजः चंद्रयान-3, चाँद की सतह सफलतापूर्वक उतरा। पूरी दुनिया में बजा भारत का डंका, Big Breaking News: Chandrayaan-3 successfully Lands on Moon (23 August 2023)

Chandrayaan-3 successfully Lands on Moonबिग ब्रेकिंग न्यूजः चंद्रयान-3, चाँद की सतह सफलतापूर्वक उतरा। पूरी दुनिया में बजा भारत का डंका (23 अगस्त 2023)

Big Breaking News: Chandrayaan-3 successfully Lands on Moon (23 August 2023)

आज 23 अगस्त 2023 को शाम 06 बजकर 04 मिनट पर भारत की अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने विश्व के अंतरिक्ष तकनीकी में इतिहास रचते हुये भारत के चंद्र मिशन पर भेजे गये अंतरिक्ष यान, चंद्रयान-3 को सफलता पूर्वक चंद्रमा पर लैंड करा दिया है। यह क्षण भारत के लिये बहुत ही गौरवमय क्षण है। इसी के साथ भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर अपना अंतरिक्ष यान भेजने वाला पहला देश बन गया है। आपको बता दें कि आजतक विश्व के किसी देश ने चाँद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने की हिम्मत नहीं की है।

Chandrayaan-3 successfully Lands on Moonबिग ब्रेकिंग न्यूजः चंद्रयान-3, चाँद की सतह सफलतापूर्वक उतरा। पूरी दुनिया में बजा भारत का डंका (23 अगस्त 2023)
Big Breaking News: Chandrayaan-3 successfully Lands on Moon (23 August 2023)

इस गौरवमयी क्षण को देखने के इंतजार में प्रत्येक भारतीय की आँखें चंद्रयान-3 पर लगी हुयी थी। इस समय इसरो सेंटर के बाहर सुरक्षा कड़ी कर दी गयी थी। देश के अलग-अलग जगहों पर चंद्रयान-3 के साॅफ्ट लैंडिंग को लेकर पूजा अर्चना की जा रही थी। ऐसे में भारत के सभी स्कूलों और काॅलेजों में चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने के गौरवमयी क्षण को लाइव स्ट्रीमिंग के जरिये छात्रों को दिखाया गया।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: भारत के चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने की तारीख और समयः

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed: रूस का चंद्र मिशन लूना-25 फेलः चन्द्रमा से टकराया

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Rakshabandhan 2023 Date & Time: रक्षाबंधन 2023 के बारे में सारी जानकारी

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

ब्रेकिंग न्यूजः आज शाम को खुलेंगे यूपी के सभी स्कूल और कालेज: Breaking News: All Schools and Colleges of UP Will Open Today Evening:

All Schools and Colleges of UP Will Open Today Evening

ब्रेकिंग न्यूजः आज शाम को खुलेंगे यूपी के सभी स्कूल और कालेज:

Breaking News: All Schools and Colleges of UP Will Open Today Evening:

आज भारत के लिये बहुत बड़ा दिन है। आज भारत, अंतरिक्ष तकनीकी के क्षेत्र में इतिहास रचने जा रहा है। आपको बता दें कि भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी, इसरो के द्वारा भेजा गया अंतरिक्ष याान, चंद्रयान-3 आज दिन बुधवार, दिनांक 23 अगस्त 2023 को शाम 6 बजकर 4 मिनट पर चाँद की धरती पर उतरने वाला है। अगर सबकुछ सही ढ़ंग से होता है तो भारत ऐसा करने वाला विश्व का चौथा देश बनेगा। इस से पहले विश्व के केवल तीन देश रूस, अमेरिका और चीन इस मुकाम को हासिल कर पाये हैं। ऐसे में पूरे विश्व की निगाहें इस समय भारत के चंद्रयान-3 पर लगी हुयी हैं।

ऐसे गौरवमयी मौके पर यूजीसी ने सभी कालेज और विश्वविद्यालयों से आग्रह किया है कि वे सभी चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने के मौके को लाइव स्ट्रीमिंग के जरिये छात्रों को दिखायें और इस खास मौके को और भी रोमांचक बनायें। आज देश का हर नागरिक इस ऐतिहासिक पल को देखने का इंतजार कर रहा है।

All Schools and Colleges of UP Will Open Today Evening:
आज शाम को खुलेंगे यूपी के सभी स्कूल और कालेज:

इस विशेष पल को और भी यादगार बनाने के लिये उत्तर प्रदेश सरकार ने एक कदम और आगे बढ़ाते हुये सभी सरकारी स्कूलों को यह निर्देश दिये हैं कि भारत के चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने के अद्भुत पल को 23 अगस्त की शाम को सभी बच्चों को लाइव दिखाने का उचित प्रबंध किया जाय। खासकर इस मौके पर शाम को 05ः15 बजे से लेकर 06ः15 बजे तक स्कूलों को खोला जायेगा, इस से बच्चों को भारत की अंतरिक्ष तकनीकी के बारे में ज्यादा जानकारी मिल सकेगी। इस दौरान आप चंद्रयान-3 की साफ्ट लैंडिंग का सीधा प्रसारण डी डी नेशनल के जरिये भी देख पायेंगे। केन्द्रीय शिक्षा मंत्रालय स्कूल एवं साक्षरता विभाग से मिले निर्देशों को ध्यान में रखते हुये उत्तर प्रदेश सरकार ने यह निर्णय लिया है।

All Schools and Colleges of UP Will Open Today Evening

Breaking News: All Schools and Colleges of UP Will Open Today Evening:
स्कूल के सभी छात्र-छात्राओं और अध्यापकों को उपस्थित रहने का निर्देशः

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के द्वारा जारी किये गये आदेश में सभी सरकारी स्कूलों को 23 अगस्त की शाम 05ः15 बजे से 06ः15 बजे तक खोलने के आदेश दिये गये हैं। ऐसे में स्कूल के सभी छात्र-छात्राओं और अध्यापकों को उपस्थित रहने का निर्देश निर्गत किया गया है।

Breaking News: All Schools and Colleges of UP Will Open Today Evening:
चंद्रयान-3 की ताजा जानकारीः

आपको बता दें कि इस से पहले चंद्रयान-2 को वर्ष 2019 में ही चाँद पर भेजा गया था लेकिन इसके चाँद की सतह पर साॅफ्ट लैंडिंग ना कर पाने की वजह से यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। परन्तु चंद्रयान-2 में लगा आर्बिटर सही तरीके से चंद्रमा की कक्षा में स्थापित होकर आज भी अपना कार्य कर रहा है।

ऐसे में ताजा जानकारी के मुताबिक भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो ने बताया कि पूर्व में भेजे गये चंद्रयान-2 के आर्बिटर से चंद्रयान-3 के लैंडर माड्यूल के बीच संपर्क स्थापित हो गया है। इससे चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने की राह और भी आसान हो गयी है। अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने अपने आधिकारिक पोस्ट में मिशन चंद्रयान-2 के आर्बिटर की तरफ से लिखा- स्वागत है दोस्त!

Breaking News: All Schools and Colleges of UP Will Open Today Evening:
इसरो की आधिकारिक वेबसाइट से लाइव प्रसारण शाम 05ः20 बजे सेः

चंद्रयान-3 के चाँद की सतह पर उतरने का लाइव प्रसारण इसरो की आधिकारिक वेबसाइट (www.isro.gov.in) से आज शाम को 05ः20 बजे से शुरू होगा। जिसको इसरो के आधिकारिक यूट्यूब चैनल और डी डी नेशनल पर भी देखा जा सकता है। आप नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर के सीधे इसरो की आधिकारिक वेबसाइट पर पहुँच सकते हैं।

www.isro.gov.in

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: भारत के चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने की तारीख और समयः

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed: रूस का चंद्र मिशन लूना-25 फेलः चन्द्रमा से टकराया

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Rakshabandhan 2023 Date & Time: रक्षाबंधन 2023 के बारे में सारी जानकारी

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: भारत के चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने की तारीख और समयः

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: भारत के चंद्रयान-3 के चाँद पर उतरने की तारीख और समयः

भारत का सबसे महत्वपूर्ण अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-3 अपने लक्ष्य से बस चंद घण्टों की दूरी पर है। ऐसे में सभी के मन में यह जानने की उत्सुकता हो रही है कि आखिर वो निश्चित समय कब आयेगा जब चंद्रयान-3 चाँद की सतह को छूकर इतिहास बनायेगा। आपको बता दें कि अगर भारत चाँद की सतह पर साफ्ट लैंडिंग करने में सफल होता है तो पूरे विश्व में ऐसा करने वाला चौथा देश बन जायेगा। इसके पहले रूस, चीन और अमेरिका ने ही चंद्रमा की सतह पर सही तरीके उतरने में सफलता पायी है।

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: दक्षिणी ध्रुव पर साॅफ्ट लैंडिंग करने वाला पहला देश बनेगा भारतः

अब सभी को बस 23 अगस्त 2023 का इंतजार है जब चंद्रयान-3 चाँद की सतह पर साफ्ट लैंडिंग करके विश्व का चौथा देश बनेगा और इतना ही नहीं, आपको यह भी बता दें कि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव (South Pole) पर उतरने वाला भारत, विश्व का पहला देश बन जायेगा और विश्व में एक नयी छाप छोड़ेगा। अभी तक किसी देश ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने की हिम्मत नहीं की है क्योंकि यह क्षेत्र घने अंधेरे में डूबा हुआ है।

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed
https://twitter.com/isro?ref_src=twsrc%5Egoogle%7Ctwcamp%5Eserp%7Ctwgr%5Eauthor

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed:बस चाँद से बस 25 किलोमीटर दूर चंद्रयान-3ः

भारत का अंतरिक्ष मिशन, चंद्रयान-3 अब चाँद से बस 25 से 125 किलोमीटर की दूरी पर है और लगातार चाँद के चक्कर लगा रहा है। इस अंतरिक्ष यान की स्पीड इस समय लगभग 1.68 किलोमीटर प्रति सेकेण्ड है और यह लगातार अपनी स्पीड को कम करते हुये चाँद के और पास पहुँच रहा है।

Chandrayaan-3 Landing Date and Time Fixed: 23 अगस्त 2023 को इतिहास रचने की तैयारीः

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी (इसरो) ने बताया कि चंद्रयान-3 की डीबूस्टिंग के सभी चरण सफलतापूर्वक पार हो चुके हैं, अब बस इसके चाँद पर उतरकर इतिहास रचने की देरी है। इसरो के मुताबिक चंद्रयान-3 के चाँद की सतह पर 23 अगस्त 2023 की शाम 6 बजकर 4 मिनट पर साॅफ्ट लैंडिंग करने की उम्मीद है। चाँद की सतह पर उतरने के बाद चंद्रयान-3 में लगा रोवर (प्रज्ञान), लैंडर (विक्रम) से अलग होकर 14 दिनों तक वहाँ पर अपना परीक्षण का कार्य करेगा और जरूरी जानकारी पृथ्वी पर भेजेगा। आपको बता दें कि चंद्रमा का एक दिन पृथ्वी के 14 दिनों के बराबर होता है। रोवर (प्रज्ञान) में 6 पहिये लगे हैं जिनकी मदद से ये चाँद की सतह पर घूमकर आवश्यक जानकारी को इकट्ठा करेगा।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Rakshabandhan 2023 Date & Time: रक्षाबंधन 2023 के बारे में सारी जानकारी

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed: रूस का चंद्र मिशन लूना-25 फेलः चन्द्रमा से टकराया।

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed: रूस का चंद्र मिशन लूना-25 फेलः चन्द्रमा से टकराया।

जर्मनी के DW न्यूज ने रूस की स्पेस एजेंसी रोस्कोस्मोस के हवाले से खबर दी है कि रूस का चंद्र मिशन लूना-25 चंद्रमा की सतह से टकराकर फेल हो गया है, जिसको 21 अगस्त 2023 को चाँद पर उतरना था। रूस ने इस मिशन को 47 साल के बाद लांच किया था। जिसमें भारत से भी मदद मांगी गयी थी लेकिन बात ना बन पाने की वजह से रूस ने अकेले ही इस मिशन को लांच किया था।

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed: अंतरिक्ष यान लूना-25 में हुयी थी तकनीकी खराबी

आपको यह बता दें कि रूस के चंद्र मिशन लूना-25 को 11 अगस्त 2023 को लांच किया गया था और इसको चाँद की सतह पर 21 अगस्त 2023 को पहुँचना था लेकिन बीच में ही एक आर्बिट से दूसरे आर्बिट से छलांग लगाते समय लूना-25 में तकनीकी खराबी आने के कारण 19 अगस्त 2023 को दुर्घटनाग्रस्त हो गया है और इस के दूसरी तरफ भारत का चंद्रयान मिशन (चंद्रयान-3) अपनी कछुये की रफ्तार से चंद्रमा की सतह की ओर सुरक्षित बढ़ रहा है एवं चंद्रमा के बेहद करीब पहुँच चुका है। चद्रयान-3 का स्वास्थ्य स्थिर बना हुआ है और यह अंतरिक्ष यान 23 अगस्त 2023 को चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक उतरने की स्थिति में है।

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed: 47 सालों के बाद रूस ने अपना मून मिशन लॉन्च किया

रूसी स्पेस एजेंसी रोस्कोस्मोस ने अपने मून मिशन लूना-25 को लांच करने से पहले सन् 1976 में लूना-24 लॉन्च किया था और अब इस मिशन के फेल हो जाने के बाद रूस को बहुत बड़ा झटका लगा है। सोवियत संघ अंतरिक्ष यात्री यूरी गागरिन 1961 में पहली बार स्पेस की यात्रा करने वाले अंतरिक्ष यात्री बने थे जब रूस ने अपना पहला सैटेलाइट स्पुतनिक-1 सन् 1957 में लॉन्च किया था। लेकिन अब 2023 में स्थिति कुछ और ही बयां कर रही है। हालाकि अभी तक पूरी तरह से यह साफ नहीं हो पाया है कि असल में रूसी मिशन के साथ क्या हुआ।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Rakshabandhan 2023 Date & Time: रक्षाबंधन 2023 के बारे में सारी जानकारी

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed: चंद्रयान-3 प्री-लैंडिंग ऑर्बिट को सफलतापूर्वक पार करते हुये आगे निकला

10 अगस्त 2023 को भारत के चंद्रयान-3 की लॉन्चिंग के एक महीने के बाद रूस का चंद्र मिशन लूना-25 लॉन्च किया गया था और इसको भारतीय चंद्र मिशन से दो दिन पहले यानी 21 अगस्त 2023 को चांद के साउथ पोल (दक्षिणी ध्रुव) पर उतरने का लक्ष्य दिया गया था। लूना-25 को जिस प्री-लैंडिंग ऑर्बिट (चांद के करीब वाले आर्बिट) में भेजने की कोशिश हो रही थी और वह दुर्घटनाग्रस्त हो गया । भारत का चंद्रयान-3 इसी प्री-लैंडिंग ऑर्बिट को सफलतापूर्वक पार करते हुये आगे निकल गया है।

Russia Moon Mission Luna-25 Crashed: रूस के मून मिशन को लेकर अभी भी संशय की स्थितिः

रूस के मून मिशन को लेकर अभी भी संशय की स्थिति बनी हुयी है। अंतरिक्ष यान लूना-25 को 21 अगस्त 2023 को चांद की सतह पर उतरना था। लेकिन अभी भी रूसी स्पेस एजेंसी ने यह साफ नहीं किया है कि तय शेड्यूल के मुताबिक ही लैंडिंग हो सकती है। या ये घटना लैंडिंग में बाधा बनेगी।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: सहारा में डूबा हुआ पैसा पाने के लिये सरकार की तरफ से रिफण्ड पोर्टल शुरू

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023ः

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना 2023ः

भारतीय रेलवे बोर्ड के द्वारा अमृत भारत स्टेशन योजना 2023 के तहत देशभर के 1000 से भी ज्यादा महत्वपूर्ण छोटे रेलवे स्टेशनों का कायाकल्प किया जायेगा। देशभर के लगभग 1000 छोटे रेलवे स्टेशनों का आधुनिकीकरण करने के साथ ही इस योजना के माध्यम से एक दीर्घकालिक दृष्टिकोण को रखते हुये रेलवे स्टेशनों के विकास की परिकल्पना की गयी है। इस मास्टर प्लान के अन्तर्गत रेल मंत्रालय के द्वारा और भी अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं पर कार्य किया जाना निर्धारित किया गया है।

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: स्टेशनों पर उत्तम व्यवस्था:

प्रतिदिन भारतीय रेलवे स्टेशनों से होकर बहुत सारी ट्रेनें गुजरती है। जिनमें लाखों लोग सफर करते हैं। इसलिये रेल मंत्रालय ने भारतीय रेल में सफर करने वाले यात्रियों को दी जाने वाली सुविधाओं को और बेहतर बनाने के लिए 1000 से भी अधिक स्टेशनों के आधुनिकीकरण करने के लिए अमृत भारत स्टेशन योजना का शुभारंभ किया है।

Katak Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023: उस शहर की कला और संस्कृति की जानकारी प्राप्त होगी

6 अगस्त 2023 को प्रधानमंत्री के द्वारा लांच की गयी अमृत भारत स्टेशन योजना 2023 के तहत देश के सभी 68 मंडलों के रेलवे स्टेशनों का विकास किया जाएगा एवं योजना के अंतर्गत नवीनीकरण कार्य को कम से कम 2 साल के अंदर ही पूरा किया जाना सुनिश्चित किया गया है। स्टेशनों के नवीनीकरण होने से नागरिकों को बेहतर स्टेशन की सुविधा का लाभ मिलेगा। इसके अलावा यात्रियों को जिस भी स्टेशन पर ठहरना होगा। वहाँ से ही यात्रियों को उस शहर की कला और संस्कृति की जानकारी प्राप्त होगी। । Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023 के तहत रेलवे स्टेशन के रोड को चौड़ा किया जाएगा एवं यात्रियों के चलने के लिए पैदल मार्ग बनाए जाएंगे।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: सहारा में डूबा हुआ पैसा पाने के लिये सरकार की तरफ से रिफण्ड पोर्टल शुरू

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023:अमृत भारत स्टेशन योजना 2023 के बारे में अक्सर पूँछे जाने वाले प्रश्नः

(Amrit Bharat Station Scheme 2023 FAQs)

प्रश्नः प्रधानमंत्री के द्वारा रेलवे स्टेशनों के विकास के लिये लांच की गयी योजना का नाम क्या है?
उत्तरः अमृत भारत स्टेशन योजना 2023 (Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023)

प्रश्नःअमृत भारत स्टेशन योजना 2023 किसके द्वारा आरंभ की गई?
उत्तरः भारतीय रेलवे बोर्ड के द्वारा

प्रश्नः अमृत भारत स्टेशन योजना 2023 के तहत लाभार्थी कौन होेंगे?
उत्तरः रेलवे में सफर करने वाले सभी नागरिक

प्रश्नः अमृत भारत स्टेशन योजना 2023 का मुख्य उद्देश्य क्या है?
उत्तरः छोटे रेलवे स्टेशनों का नवीनीकरण और उनका आधुनिकरण करना

Amrit Bharat Railway Station Scheme 2023 के अंतर्गत महिलाओं और दिव्यांगों के लिए विशेष सुविधा:

इस योजना के माध्यम से महिला और दिव्यांगजनों को विशेष सुविधाएं प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा सभी श्रेणियों के स्टेशनों पर पर्याप्त संख्या में शौचालय का निर्माण किये जाने का प्रावधान किया है।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Rakshabandhan 2023 Date & Time: रक्षाबंधन 2023 के बारे में सारी जानकारी

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें

Chandrayan-3 News Latest Update: समय से 5 दिन पहले ही चंद्रयान-3 का लैंडर पहुँच गया चाँद परः

Chandrayan-3 News Latest Update

Chandrayan-3 News Latest Update: समय से 5 दिन पहले ही चंद्रयान-3 का लैंडर पहुँच गया चाँद परः

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के द्वारा भेजा गया चंद्रयान-3, चंद्रमा पर पहुँचने ही वाला है। इसी बीच एक बड़ी खबर आ रही है कि इस अंतरिक्ष यान में लगे लैंडर ने चंद्रमा के बेहद करीब से उसकी सतह की फोटो ली है जिसमें बहुत ही कम रोशनी के साथ बड़े बड़े गड्ढ़े साफ देखे जा सकते हैं।

Chandrayan-3 News Latest Update:वीडीयो नीचे है।
Chandrayan-3 News Latest Update
https://twitter.com/isro
Chandrayan-3 News Latest Update: लैंडर ने भेजी वीडियोः

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने ट्वीट करके यह जानकारी दी कि चंद्रयान-3 से लैंडर सफलतापूर्वक अलग होकर अपना काम कर रहा है। आपको बता दें कि इसरो के द्वारा भेजे गये इस अंतरिक्ष यान में एक प्रोपल्शन माड्यूल, एक लैंडर और एक रोवर (प्रज्ञान) है। जिसमें से मुख्यतः रोवर को चाँद पर उतरना है। इसी कड़ी में लैंडर, चंद्रयान-3 से सफलतापूर्वक अलग होकर रोवर को लेकर चाँद के बेहद करीब पहुँच चुका है और वहाँ से कुछ फोटो और वीडियो भेजी है। वीडियों में आप साफ देख सकते हैं।

 

 

Chandrayan-3 News Latest Update: चंद्रयान-3 ने आखिरी सीढ़ी को पार कियाः

अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के मुताबिक चंद्रयान-3 आखिरी सीढ़ी को पार करके चंद्रमा की 153X163 किलोमीटर की कक्षा में पहुँच गया है। इसी के साथ अंतरिक्ष यान के चंद्रमा की सीमा में प्रवेश  कराने का चरण पूर्ण हो चुका है अब इसके बाद 23 अगस्त 2023 को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर इसके साफ्ट लैंडिंग का प्रयास किया जाना है।

Chandrayan-3 News Latest Update:23 अगस्त 2023 को होगी साफ्ट लैंडिगः

मिशन चंद्रयान-3 में लैंडर माड्यूल का स्वास्थ्य सामान्य बना हुआ है। विक्रम लैंडर, प्रोपल्शन माड्यूल से सफलतापूर्वक अलग होने के बाद चाँद की कक्षा में अकेले ही चक्कर लगा रहा है। अब इसके बाद एक आखिरी चरण की प्रक्रिया के तहत 20 अगस्त को डीबूस्टिंग करके लैंडर को चंद्रमा की निचली सतह में लाया जायेगा और फिर वो वहाँ से चांद की सतह पर उतरने के लिये आगे बढ़ेगा। 23 अगस्त 2023 को तय समय के अनुसार 5 बजकर 47 मिनट पर चंद्रयान-3 चंदमा की सतह पर उतरेगा।

Source: https://twitter.com/isro

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Chandrayan-3 Latest Update: चन्द्रमा की परिधि में चंद्रयान-3 का सफलतापूर्वक प्रवेश

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: सहारा में डूबा हुआ पैसा पाने के लिये सरकार की तरफ से रिफण्ड पोर्टल शुरू

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Rakshabandhan 2023 Date & Time: रक्षाबंधन 2023 के बारे में सारी जानकारी

 

Section 144: धारा 144 के बारे मेंः

Section 144: धारा 144 के बारे मेंः

Section 144: धारा 144 के बारे मेंः

CRPC (Criminal Procedure Code) 1973, Section-144 (धारा 144) के तहत किसी भी राज्य या केन्द्रशासित प्रदेश के मजिस्ट्रेट को यह अधिकार मिलता है कि वह किसी भी विषम परिस्थिति में एक सुनियोजित क्षेत्र में चार या उससे अधिक लोगों के एकत्रित/गुट बना के चलने पर पर रोक लगा सकता है। आम तौर पर यह धारा किसी भी जगह पर हिंसा की स्थिति से निपटने के लिये तात्कालिक प्रभाव से जिले के मजिस्ट्रेट को लागू करने का अधिकार प्रदान करती है।

Section 144: धारा 144 के बारे मेंः धारा 144 के लागू होने के नियमः

धारा 144 के लागू होने की दशा में क्षेत्र के अधिकारियों को यह अधिकार मिल जाता है कि वह उस क्षेत्र में इंटरनेट की पहुँच को अवरूद्व या बन्द करने का आदेश निर्गत कर सकते हैं। इसके साथ ही आम जन मानस के आवागमन पर प्रतिबंध लग जायेगा एवं सभी सरकारी अथवा गैर-सरकारी शैक्षणिक संस्थान एक निश्चित अवधि के लिये बंद हो जायेंगे।
जिस विशिष्ट क्षेत्र में यह धारा लागू की जाती है वहाँ पर हथियारों के आदान प्रदान एवं लेन-देन पर भी पूरी तरह से पाबंदी लगा दी जाती है। ऐसा करते हुये पकड़े जाने पर सजा का भी प्रावधान है। धारा 144 लागू होने पर किसी भी तरह की रैली एवं जनसभा आयोजित किये जाने पर प्रतिबंध लग जाता है। इस धारा को लागू करने का मुख्य उद्देश्य उस विशिष्ट क्षेत्र में शान्ति व्यवस्था बनाये रखना है।

Section 144: धारा 144 के बारे मेंः धारा 144 के लागू करने की समयावधिः

आम तौर पर धारा 144 लागू होने की दशा में अधिकतम 02 माह तक पाबंदी लगायी जा सकती है। परन्तु विषम परिस्थितियों में राज्य सरकार के द्वारा यह अवधि अग्रिम 01 से 02 माह तक के लिये बढ़ाई जा सकती है।
किसी भी परिस्थिति में धारा 144 के लागू करने की अवधि 06 माह से अधिक नहीं हो सकती है।

Section 144: धारा 144 के बारे मेंः कर्फ़्यू और धारा 144 में अंतरः

धारा 144 के लागू होने का मतलब किसी विशिष्ट क्षेत्र में चार या उस से अधिक व्यक्तियों के एकत्रित होने पर रोक लग जाती है। परन्तु कर्फ़्यू लगने की स्थिति में उस विशिष्ट अवधि में लोगों को घर से बाहर निकलने पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया जाता है। किसी भी विशिष्ट क्षेत्र में कर्फ़्यू लगने पर उस क्षेत्र के सभी स्कूल, विद्यालय, महाविद्यालय, दफ्तर, बाजार आदि पूर्णतः बंद हो जाते हैं। केवल आवश्यक सेवाओं की आपूर्ति एक विशिष्ट आदेश के तहत की जा सकती है। किसी भी क्षेत्र में कर्फ़्यू तभी लगाया जाता है जब वहाँ की कानून एवं व्यवस्था की हालत बहुत ही खराब हो जाती है। ऐसी स्थिति में लोगों को एक खास समयावधि तक के लिये घर के अन्दर रहने का निर्देश दिया जाता है।

किसी भी सुरक्षा संबंधी खतरे या दंगे की आशंका के चलते, उस विशिष्ट क्षेत्र में शान्ति कायम करने हेतु धारा 144 का लगायी जाती है। ऐसे समय में गैर कानूनी तरीके से इकट्ठा होने वाले व्यक्तियों के खिलाफ, दंगा भड़काने के मामले में केस दर्ज किया जा सकता है और दंडात्मक कार्यवाही करते हुये अधिकतम 03 साल तक कैद की सजा भी हो सकती है।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: सहारा में डूबा हुआ पैसा पाने के लिये सरकार की तरफ से रिफण्ड पोर्टल शुरू

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Rakshabandhan 2023 Date & Time: रक्षाबंधन 2023 के बारे में सारी जानकारी

GI (Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

GI (Geographical Indication) Tag 2023:

GI(Geographical Indication) Tag 2023: क्या होता है जी आई टैग, कैसे मिलता है

GI (Geographical Indication) Tag 2023: भौगोलिक संकेत या जीआई टैग (Geographical Indications):

भौगोलिक संकेत या जीआई (Geographical Indications) Tag किसी भी ऐसे उत्पाद को दिया जाने वाला एक संकेत है जो किसी विशिष्ट भौगोलिक स्थान पर उत्पन्न होता है। भारत में भौगोलिक संकेतक (पंजीकरण और संरक्षण) अधिनियम, 1999 (Geographical Indications of Goods (Registration and Protection) Act, 1999) के अनुसार जीआई टैग दिए जाते हैं।
साधारण शब्दों में कहें तो इस तरह के उत्पाद में मूल स्थान, जहाँ से वह उत्पन्न हो रहा है, की प्रतिष्ठा और गुण होने चाहिए।

जीआई टैग, अपने कुछ अद्वितीय गुणों के कारण अन्तर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर बड़े पैमाने पर प्रतिष्ठा हासिल करने वाले आमतौर पर ग्रामीण, सीमांत और स्वदेशी समुदायों द्वारा पीढ़ियों से उत्पादित उत्पादों पर पंजीकृत होते हैं।

GI (Geographical Indication) Tag 2023: वस्तुओं का भौगोलिक संकेत (पंजीकरण और संरक्षण) अधिनियम, 1999
भारत में यह अधिनियम, भौगोलिक संकेतों की सुरक्षा के लिए संसद द्वारा पारित एक विशिष्ट अधिनियम है। भारत ने विश्व व्यापार संगठन (WTO) (World Trade Organization) के एक सदस्य के रूप में बौद्धिक संपदा अधिकारों के व्यापार संबंधित पहलुओं पर समझौते का अनुपालन करने के तहत यह अधिनियम पारित किया था।

वर्ष 2004-05 में भारत का पहला जीआई टैग उत्पाद दार्जिलिंग की चाय बनी थी और साल 2020 तक इस सूची में 370 उत्पाद जोड़े जा चुके थे।

GI (Geographical Indication) Tag 2023: भौगोलिक संकेतक अधिनियम, 1999ः

भौगोलिक संकेत (पंजीकरण और संरक्षण) अधिनियम, 1999 की धारा 2(1)(ई) के अनुसार, भौगोलिक संकेत एक ऐसे सामान की पहचान के रूप में इंगित करता है, जो किसी देश के विशेष क्षेत्र में उत्पन्न या निर्मित होती हैं या उस क्षेत्र या इलाके में इन वस्तुओं की दी गई गुणवत्ता एवं विशेषता अनिवार्य रूप से इसके भौगोलिक उत्पत्ति के कारण होती है।

GI (Geographical Indication) Tag 2023:  भौगोलिक संकेतों में कुछ प्रमुख पंजीकृत कुछ उत्पाद के नामः

कृषि क्षेत्र में: दार्जिलिंग चाय, बैंगलोर ब्लू अंगूर, मालाबार काली मिर्च।
निर्मित सामानों में:  पोचमपल्ली इकत, कांचीपुरम रेशम साड़ी, सोलापुरी चादर, बाग प्रिंट और मधुबनी पेंटिंग।

जीआई टैग का उपयोग निम्न प्रकार के उत्पादों पर किया जाता है।

हस्तशिल्प जैसे मधुबनी पेंटिंग, मैसूर सिल्क आदि
खाद्य पदार्थ जैसे तिरुपति लड्डू, रसगुल्ला आदि।
कृषि उत्पाद जैसे बासमती चावल आदि।

GI (Geographical Indication) Tag 2023: जीआई टैग के पंजीकरण की प्रक्रिया:

संबंधित वस्तुओं के उत्पादकों का प्रतिनिधित्व करने वाले व्यक्तियों या किसी भी संघ के द्वारा भौगोलिक संकेतक के रजिस्ट्रार के समक्ष जीआई टैग के पंजीकरण हेतु आवेदन करना होता है।

आवेदन में विशेष रूप से उस उत्पाद के भौगोलिक वातावरण, निर्माण की प्रक्रिया, प्राकृतिक और मानवीय कारकों, उत्पादन के क्षेत्र के मानचित्र के साथ, इसके निर्माताओं की सूची, निर्धारित शुल्क आदि का विवरण भी होना चाहिए। आवेदन की प्रारंभिक जांच में कुछ त्रुटि या कमी होने की स्थिति में आवेदक को एक महीने की अवधि के अंदर इसका समाधान करना होता है। रजिस्ट्रार किसी भी आवेदन को निर्धारित मानकों पर स्वीकार, आंशिक रूप से स्वीकार या अस्वीकार कर सकता है। दिए गए आवेदन को अस्वीकार करने की स्थिति में रजिस्ट्रार द्वारा अस्वीकृति हेतु एक लिखित आधार दिया जाएगा।

GI (Geographical Indication) Tag 2023: भौगोलिक संकेतक:

आवेदन के अस्वीकार होने की स्थिति में आवेदक को दो माह के अंदर अपना जवाब दाखिल करना होता है। अगर पंजीकरण के लिए पुनः अस्वीकृत किया जाता है तो आवेदक इस तरह के फैसले में एक महीने के भीतर अपील कर सकता है।
आवेदन के स्वीकृति होने की स्थिति में तीन महीने के अंदर रजिस्ट्रार, जीआई जर्नल में आवेदन को विज्ञापित कर सकता है। इसके बाद अगर दिये गये आवेदन का किसी के भी द्वारा विरोध नहीं किया जाता है, तो रजिस्ट्रार आवेदक और अधिकृत उपयोगकर्ताओं को पंजीकरण का प्रमाण पत्र प्रदान कर देता है।

GI (Geographical Indication) Tag 2023: भौगोलिक संकेतक: 

जीआई टैग के पंजीकरण शुरू होने के पहले वर्ष में दार्जिलिंग चाय के अलावा, अरनमुला कन्नाडी (केरल की एक हस्तकला), पोचमपल्ली इकत (तेलंगाना की एक हस्तकला) को भी यह संकेत प्रदान किया गया था। वर्ष 2020 तक भारत में पंजीकृत 361 जीआई उत्पादों में से 15 उत्पाद 9 विभिन्न देशों, इटली, फ्रांस, यूके, यूएसए, आयरलैंड, मैक्सिको थाईलैंड, पेरू, पुर्तगाल से संबंध रखते हैं।

GI(Geographical Indication)Tag 2023: भौगोलिक संकेत, अलग-अलग राज्यों के उत्पाद:

कुछ उत्पाद ऐसे हैं जिनकी उत्पत्ति विभिन्न राज्यों से हुई है, ऐसे में मूल का उल्लेख भारत के रूप में किया जाएगा। जैसे फुलकारी हस्तशिल्प की उत्पत्ति पंजाब, हरियाणा, राजस्थान से हुई है। वार्ली पेंटिंग की उत्पत्ति महाराष्ट्र, गुजरात, दमन और दीव से हुई है। मालाबार रोबस्टा कॉफी केरल और कर्नाटक से हुई है।

इनमें से कर्नाटक राज्य से सबसे अधिक उत्पाद जीआई टैग पंजीकृत हैं। तमिलनाडु दूसरा सबसे अधिक जीआई टैग पंजीकृत उत्पादों वाला राज्य है। जबकि महाराष्ट्र , देश में तीसरा सबसे अधिक जीआई पंजीकृत उत्पादों वाला राज्य हैं।

GI (Geographical Indication) Tag 2023: FAQs भौगोलिक संकेत (GI) के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न: भारत में जीआई टैग कौन जारी करता है ?
उत्तर: भौगोलिक संकेतक (पंजीकरण और संरक्षण) अधिनियम, 1999 के अनुसार यह टैग भौगोलिक संकेतक रजिस्ट्री द्वारा उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के तहत जारी किया जाता है। वर्ष 2003 में जीआई टैग देने की शुरुआत हुई थी एवं साल 2004 में सबसे पहले पश्चिम बंगाल की दार्जलिंग चाय को जीआई टैग दिया गया था

प्रश्न: जीआई टैग मिलने के क्या फायदे होते है ?
उत्तर: जीआई टैग मिलने से उत्पादों को कानूनी संरक्षण मिलता है या साधारण शब्दों में कहें तो उपलब्ध बाजार में उसी नाम का दूसरा प्रोडक्ट नहीं लाया जा सकता है। किसी भी उत्पाद को जीआई टैग का मिलना उस उत्पाद की अच्छी गुणवत्ता को भी दर्शाता है एवं इसी गुणवत्ता के चलते उस उत्पाद को एक बेहतरीन बाजार भी उपलब्ध हो जाता है।

प्रश्न: कितने समय के लिये मिलता है जी आई टैग ?
उत्तर: जीआई टैग के पंजीकरण का प्रमाण पत्र मात्र 10 वर्ष की अवधि के लिए मिलता है। इसके बाद इसका नवीनीकरण करा सकते हैं। जीआई टैग मिलने से नकली उत्पाद को रोकने में मदद मिलती है तथा उस उत्पाद का मूल्य और उससे जुड़े लोगों की अहमियत बढ़ जाती है।

GI (Geographical Indication) Tag 2023: भौगोलिक संकेतक:

इस समय भारत में 300 से भी अधिक उत्पादों को जीआई टैग मिल चुका है। इनमें कश्मीर का केसर और पश्मीना शॉल, नागपुर के संतरे, बंगाली रसगुल्ले, अलीबाग का सफेद प्याज, भागलपुर का जर्दालु आम, महोबा का पान, बनारसी साड़ी, तिरुपति के लड्डू, रतलाम की सेव, बीकानेरी भुजिया आदि शामिल हैं।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

ISRO PSLV-C56: सिंगापुर के 7 सैटेलाइट को लेकर अंतरिक्ष में भरी उड़ान।

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: सहारा में डूबा हुआ पैसा पाने के लिये सरकार की तरफ से रिफण्ड पोर्टल शुरू

Sahara Money Refund Portal Launch 2023:Sahara Money Refund Portal Launch 2023: सहारा में डूबा हुआ पैसा पाने के लिये सरकार की तरफ से रिफण्ड पोर्टल शुरू

केंद्रीय गृह और सहकारिता मंत्री अमित शाह ने 19 जुलाई 2023 को सीआरसीएस.सहारा रिफंड (CRCS-Sahara Refund Portal) पोर्टल को लॉन्च किया इसके माध्यम से सहारा समूह की चार सहकारी समितियों 1. सहारा क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड, 2. सहारायन यूनिवर्सल मल्टीपर्पज सोसाइटी लिमिटेड, 3. हमारा इंडिया क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड और 4. स्टार्स मल्टीपर्पज कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड में निवेशकों के डूबे हुये पैसे मिलने का रास्ता साफ हो गया है। अब निवेशक आनलाइन माध्यम से सीआरसीएस.सहारा रिफंड (CRCS-Sahara Refund Portal) पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करके अपना पैसा प्राप्त कर सकते हैं, इसके लिये निवेशकों को किसी भी सरकारी दफ्तर के चक्कर लगाने की भी जरूरत नहीं है।

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: कितने दिनों में मिलेगा पैसा

सहारा के रिफंड पोर्टल के माध्यम से केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने प्रथम चरण में सहारा के 112 निवेशकों के खाते में 10,000 रुपये ट्रांसफर किये एवं यह भी बताया कि 18 लाख निवेशक इस पोर्टल पर अब तक अपना रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं।

पोर्टल की लॉन्चिंग के समय केंद्रीय गृह मंत्री ने यह बताया कि ये पहला मौका है जब जमाकर्ताओं के ऐसे मामले में उनके पैसे वापस किए जा रहे हैं। रिफण्ड पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के 45 दिनों में उन्हें उनका पैसा रिफंड मिल जाएगा। रिफण्ड किये जाने के पहले फेज में एक करोड़ से ज्यादा डिपॉजिटर्स के क्लेम का सेटलमेंट किया जाएगा तथा निवेशकों के जमा किये हुये 5,000 करोड़ रुपये वापस किए जायेंगे।

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: अक्सर पूँछे जाने वाले प्रश्न

सहारा में डूबा हुआ पैसा पाने के लिये सरकार की तरफ से शुरू किये गये रिफण्ड पोर्टल के बारे में कुछ अक्सर पूँछे जाने वाले प्रश्न नीचे दिये गये हैं । इन प्रश्नों को ध्यान से पढ़ लें , इनसे आपको अपना पैसा प्राप्त करने में बहुत मदद मिलेगी।

प्रश्नः सीआरसीएस सहारा रिफंड पोर्टल (CRCS-Sahara Refund Portal) का वेब पोर्टल का क्या पता (Website) है जिसके माध्यम से निवेशक, रजिस्ट्रेशन करके अपना पैसा प्राप्त कर सकते हैं?

उत्तरः https://www.mocrefund.crcs.gov.in.

प्रश्नः सीआरसीएस सहारा रिफंड पोर्टल (Sahara Money Refund Portal Launch 2023:) के माध्यम से रिफंड का दावा करने के लिए पात्रता मानदंड (Eligibility Criteria) क्या हैं?

उत्तरः सहारा समूह की सहकारी समितियों में 10,000 या उससे अधिक रुपये तक का जमा करने वाले निवेशक अपने पहले भुगतान का दावा करने के पात्र हैं। पहले भुगतान के तहत पोर्टल के माध्यम से 10,000 रूपये प्राप्त कर सकते हैं।

प्रश्नः सहारा रिफंड पोर्टल के माध्यम से रिफंड प्राप्त करने में कितना समय लगता है?

उत्तरः पोर्टल पर दावा प्रस्तुत करने के 45 दिनों के भीतर पैसा दावेदार (निवेशक) के बैंक खाते में जमा कर दिया जाएगा।

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: FAQs

प्रश्नः क्या सीआरसीएस सहारा रिफंड पोर्टल (CRCS-Sahara Refund Portal) पर आवेदन करने के लिए कोई दस्तावेज आवश्यक हैं?

उत्तरः हां, जमाकर्ताओं को सहारा खाता संख्या, मोबाइल नंबर (आधार से जुड़ा हुआ), सदस्यता संख्या और जमा प्रमाणपत्र/पासबुक जैसे दस्तावेज उपलब्ध कराने होंगे। 

प्रश्नः क्या जमाकर्ता अपने धनवापसी अनुरोध की स्थिति को ट्रैक कर सकते हैं?

उत्तरः हां, जमाकर्ता पोर्टल के माध्यम से अपने रिफंड अनुरोध की स्थिति को ट्रैक कर सकते हैं और एसएमएस/सन्देश के माध्यम से अपडेट प्राप्त कर सकते हैं। 

प्रश्नः सहारा रिफंड पोर्टल (Sahara Refund Portal) की शुरुआत किसने की?

उत्तरः केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह द्वारा यह पोर्टल 18 जुलाई, 2023 को लांच किया गया ।

Sahara Money Refund Portal Launch 2023: सीआरसीएस सहारा रिफंड पोर्टल के लिये आवश्यक दस्तावेजः

सीआरसीएस सहारा मनी रिफंड पोर्टल पर आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज:

1. जमा खाता संख्या (Deposit Account Number)
2. आधार से जुड़ा हुआ मोबाइल नंबर (अनिवार्य) (Aadhar Linked Mobile Number)
3. सदस्यता संख्या (Membership Number)
4. जमा प्रमाणपत्र/पासबुक (Deposit Passbook)
5. पैन कार्ड (Pan Card) (यदि दावा राशि 50,000 रुपये से अधिक है)

सहारा रिफंड पोर्टल जमाकर्ताओं को बिना किसी अनावश्यक परेशानी के अपनी मेहनत की कमाई वापस पाने का अधिकार देता है। इसलिए, यदि आपने भी सहारा समूह की सहकारी समितियों में 10,000 रूपये या उससे उपर का जमा किया हो तो अब और इंतजार न करें। सरकार के सहारा रिफंड पोर्टल पर जाएं, पंजीकरण करें और अपने रिफंड के लिए आज ही आवेदन करें। 

सहारा रिफंड पोर्टल के बारे में और अधिक जानकारी के लिये आप कमेंट बाक्स में अपना सवाल पूँछ सकते हैं।

Sahara Money Refund Portal Launch 2023:

Source: https://mocrefund.crcs.gov.in./

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Alert 2023: Gmail Account May be closed : बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

ICC Cricket World Cup 2023: Information on Free Ticket Booking & Rates-भारत में आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2023, टिकट की कीमत और आरक्षण प्रक्रियाः

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

Eye Flu Virus Latest Update 2023:Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता है और इससे बचने का तरीकाः

नमस्कार दोस्तों, आज हम एक ऐसे संक्रामक के बारे में बात करने वाले हैं जो इन दिनो में बड़ा सामान्य है और लगभग सभी लोगों ने इसके बारे में सुना भी होगा और इसको महसूस भी किया होगा क्योंकि आज हम बात करने वाले है आई फ्लू (EYE FLU) के बारे में। आई फ्लू (EYE FLU) बहुत तेजी से बढ़ रहा है और कई सारे जगहों पर इसके बढ़नें की वजह से स्कूल और कालेज बंद भी किये जा रहे हैं। आई फ्लू के क्या कारण है आई फ्लू (EYE FLU) अगर हमें हो जाता है तो हम कैसे समझ पायेंगे कि आई फ्लू हमें हुआ है या अगर हमें हो भी जाता है तो इसके लिये क्या उपचार हैं क्या रोकथाम है वो सारी चीजें हम यहाँ पर आपको समझाने की कोशिश करेंगे।

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू क्या होता हैः

सबसे पहली बात हम यह समझते है कि आई फ्लू क्या होता है तो आई फ्लू एक नेत्र संक्रामक (conjunctivitis) है। यह एलर्जी, बैक्टीरिया या वायरस से हो सकता है। दूसरी भाषा में, अगर हम किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते है तो भी हमको आई फ्लू (EYE FLU) हो सकता है अगर हमने उसकी ऐसी किसी भी चीज का इस्तेमाल किया है जिसका इस्तेमाल उसने पहले किया हुआ है। यानि अगर हम किसी संक्रमित व्यक्ति की चीजों का इस्तेमाल हम करते है तो भी हमको आई फ्लू हो सकता है। तो अगर आप कहीं भी भीड़-भाड़ वाली जगह पर जा रहे हों जहाँ पर आई फ्लू हो सकता है तो घर से बाहर निकलने से पहले अपनी आँखों में काला चश्मा जरूर लगाकर निकलें और हमको ज्यादा से ज्यादा यही कोशिश करनी है कि हम अपनी आँखों को कम से कम छुयें।

Eye Flu Virus Latest Update 2023: अब हम बाात करते है कि अगर हमको आई फ्लू (EYE FLU) हो गया है तो हम इस बात को कैसे पहचानेंगे 

इस बात पर बडे़ ही ध्यान से अमल कीजियेगा क्योंकि ये बहुत ही काॅमन है अगर किसी को आई फ्लू (EYE FLU) हो जाता है, तो उसकी आँखे गुलाबी या लाल रंग की हो जाती हैं। यानि आँखों में लालपन आ जाता है इसके अलावा आपकी आँखों में सूजन भी आ सकती है, आँखों से पानी आ सकता है या आँखों से कुछ चिपचिपा पदार्थ निकलने के साथ खुजली भी हो सकती है। इसे हम सामान्य रूप से गाँव की भाषा में आँख आना भी बोल देते है। ऐसे समय में जब कभी हम सुबह उठते हैं तो हमारी आँखें आपस में चिपकी होती हैं जो आई फ्लू में भी चिपचिपे पदार्थ की वजह से ऐसा हो सकता है। इसके अलावा जब हम कहीं बाहर जाते हैं और अगर बाहर बहुत तेेज धूप है तो हमको बाहर निकलते समय हमारी आँखें असहज हो सकती हैं या फिर हमको धूप में देखने में परेशानी हो सकती है। ये सब आई फ्लू (EYE FLU) के लक्षण हो सकते हैं।

Eye Flu Virus Latest Update 2023: उपचार एवं रोकथामः

मान लीजिये अगर आपको आई फ्लू हो जाता है तो इसके क्या उपचार एवं रोकथाम हैं आइये इसके बारे में जानते है।

सबसे पहले अगर हम अपने आस पास सफाई रखेंगे जो हम बहुत हद तक इस संक्रामक से बच सकते है। दूसरी बात, हम जब भी आँखों को छुये तो अपने हाथों को जरूर धुलें या कोशिश करेें कि अपनी आँखों को कम से कम छुये। अगर हम किसी ऐसी जगह पर हों जहाँ पर बहुत गर्मी हो रही हो या हमको बार बार पसीना आ रहा हो तो ऐसे समय में इस बात का ध्यान रखें कि अपनी आँखों को ना छुयें क्योंकि अगर आपके हाथ में पसीना लगा है और वह आपकी आँखों के सम्पर्क में आता है तो आँखों में आई फ्लू संक्रामक का खतरा बढ़ जाता है।

इसके अलावा आई फ्लू से बचने का एक तरीका और भी है कि आप अपनी व्यक्तिगत चीजों का ही इस्तेमाल करें, किसी भी संक्रमित व्यक्ति या दूसरे व्यक्ति की चीजें जैसे कि तौलिया, रूमाल या बाकी अन्य चीजों का इस्तेमाल कभी भी ना करें। इससे भी हम आई फ्लू से बच सकते हैं।

Eye Flu Virus Latest Update 2023: आई फ्लू के उपचारः

आई फ्लू से बचने का सबसे पहला उपचार तो यही है कि आप अपनी आँखों की हल्की सी गरमाहट के साथ सेंकाई करें। इसके लिये हम थोड़ी सी रूई या काॅटन लेकर गुनगुने पानी में भिगोकर अपनी आँखों को सेंक सकते हैंै। इससे हमको काफी राहत मिलती है। इसके दूसरी तरफ अगर हम बात करें तो आई फ्लू 1 से 2 हफ्ते में स्वतः ही ठीक हो जाता है लेकिन अगर आपको आई फ्लू के कारण परेशानी ज्यादा ही बढ़ जाती है और आपको लगता है कि आपकी आँखों से बहुत ज्यादा ही गन्दगी निकल रही है या फिर आँखें खोलते या बंद करते समय हल्का सा दर्द महसूस हो रहा है या खुजली बहुत ज्यादा हो रही है तो आप जरूर ही किसी डाॅक्टर से सम्पर्क करें इसको अन्यथा में ना लें क्योंकि ये आपकी आँखों का मामला है इसके बारे में आपको सतर्कता बरतनी आवश्यक है। घरेलू उपचार के तहत हम केवल अपनी आँखोें को गुनगुने पानी से सेंक सकते हैं जिससे आपको बहुत ही आराम मिलेगा।

डिस्क्लेमरः  उपरोक्त लेख एक जानकारी मात्र है इसका इस्तेमाल किसी भी प्रकार के दवा या इलाज के विकल्प के रूप में नहीें किया जा सकता है। किसी भी समस्या के लिये हमेशा अपने डाक्टर से सलाह जरूर लें।

आप यह भी पसन्द कर सकते हैंः

Food Precaution in Rainy Season: बारिश के मौसम में खाने की इन 5 चीजों का सेवन कभी ना करें

India Vs West Indies Series 2023 , Highly Emotional Yashasvi Jaiswal on scores hundred: यशस्वी जायसवाल अपने First डेब्यू टेस्ट में शतक लगाने के बाद पिता से बात करते हुए भावुक:

Alert 2023: Gmail Account May be closed :  बंद हो सकता है आपका जीमेल अकाउंट।

 

Sawan me Somwar Puja: 2023 में सावन 2 महीनों का होगा, पूजा की उत्तम विधि जानने के साथ इस महीने के अन्य लाभ भी जान लें।


Sawan me Somwar Puja: 2023 में सावन 2 महीनों का होगा, पूजा की उत्तम विधि जानने के साथ इस महीने के अन्य लाभ भी जान लें।

सावन का महीना आज 4 जुलाई से शुरू:

सावन का महीना शिव जी का प्रिय माह है इसलिए सावन में शिव जी को प्रसन्न कर उनका आशीर्वाद पाने के लिए कई उपायों के बारे में बताया जाता है, हर हर महादेव और बम बम भोले की गूंज से मंदिर और शिवालयों का वातावरण शिवमय हो गया है अगले 2 महीने तक भक्त महादेव की पूजा-अर्चना करेंगे । शिव मंदिरों में भोले बाबा के नाम का जय घोष गूंजने लगा है इस बार सावन का महीना 4 जुलाई से लेकर 31 अगस्त तक रहेगा।

अधिक मास का संयोग:

सावन के महीने के साथ  ही 2023 में अधिक मास का संयोग बन रहा है इसलिए सावन के महीने में 1 महीने और अधिक मास रहेगा, 19 साल के बाद ऐसा संयोग दोबारा बन रहा है। हालांकि यह अधिक मास पहले बहुत अशुभ माना जाता था तथा इस मास में कोई भी शुभ कार्य ना करने की सलाह दी जाती थी परन्तु बाद में ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु ने इस महीने को अपना नाम दे दिया तभी से इस मास का महत्व बहुत ही बढ़ गया और इस मास को पुरुषोत्तम मास के नाम से जाना जाने लगा। अधिक मास में धर्म-कर्म के कार्यों को करने से उसका सर्वोत्तम परिणाम मिलता है। इसलिये ऐसा माना जाता है कि अधिक मास वाले सावन में भगवान शिव की पूजा अर्चना करने के साथ-साथ भगवान विष्णु की आराधना करना अत्यधिक गुणकारी होता है।  2023 में सावन में पड़ने वाले अधिक मास का समय 18 जुलाई से शुरू होकर 16 अगस्त तक चलेगा।

इस बार व्रत रखने वाले सोमवार की संख्या बढ़ी:

मंगलवार 4 जुलाई  2023 से सावन मास की शुरूवात हो चुकी है इस वर्ष सावन मास में अधिक मास के जुड़ जाने के साथ ही सावन के कुल सोमवार की संख्या 8 हो गयी है जो कि सामान्य सावन के मुकाबले लगभग दोगुनी है इसी के साथ आपको यह भी बताते चलें कि इस साल सावन के 8 सोमवार के साथ पडने वाले 9 मंगलवार को मंगल गौरी व्रत भी रखा जायेगा जो कि अत्यंत ही गुणकारी सिद्व होता है सावन मास में इस व्रत को रखने से मां पार्वती, मंगला गौरी के रूप में अपने भक्तों पर कृपा बरसाती है।

सावन मास में भगवान शिव की पूजन विधिः

शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव को समर्पित सावन के महीने में ही समुद्र मंथन हुआ था और उस समुद्र मंथन से जो हलाहल विष निकला था, उसका पान भगवान शिव ने किया था इसलिये उस विष को शान्त करने के लिये भक्त इस महीने मे भगवान शिव को जल अर्पित करते हैं। केवल सावन मास में भगवान शिव की पूजा करके पूरे साल की पूजा के बराबर फल पाया जा सकता है। सावन मास में हर सोमवार को व्रत रखना बहुत ही उत्तम माना गया है। हर दिन सुबह शिवलिंग पर जल और बेलपत्र के साथ दूध अर्पित करने के साथ शिव मंत्र का जाप करना सावन महीने में बहुत ही फलदायी माना गया है। इस माह में रूद्रा़क्ष धारण करना बहुत ही उत्तम होता है।

सावन मास में पूजा के लिए शुभ समय:

सावन मास में पूजा के लिए शुभ समय ब्रह्म मुहूर्त में सुबह 3:56 बजे से सुबह 4ः50 बजे, अभिजीत मुहूर्त में सुबह 11ः57 बजे से दोपहर 12ः52 बजे तक एवं अमृत काल में दोपहर 11ः59 बजे से रात 1ः30 बजे तक का समय उत्तम माना गया है।

सावन मास में दान करने का महत्व:

शास्त्रों की मान्यताओं के अनुसार सावन में काला तिल, नमक, चावल  एवं चांदी की वस्तुओं को सोमवार के दिन पूरे विधि-विधान से दान करने पर शिव की पूजा और व्रत करने के समान फल प्राप्त होता है  ऐसा माना जाता है कि सावन में सोमवार के दिन शिवलिंग पर गंगाजल, बेलपत्र, धतूरा, भांग, कपूर, दूध, चावल, चंदन एवं रूद्राक्ष आदि चढ़ाने से बहुत ही लाभ प्राप्त होता है। परन्तु शिवलिग पर  कभी भी हल्दी, कुमकुम, तुलसीदल, लाल रंग का फूल एवं शंख से जल नहीं अर्पित करना चाहिए।

सावन मास में ये काम कभी ना करें:

सावन मास में जल की बर्बादी कभी ना करें एवं पत्तेदार चीजों का सेवन एवं तामसिक भोजन जैसे लहसुन, प्याज आदि का सेवन कदापि ना करें।

सावन मास में पंचक का रखें पूरा ध्यानः

किसी भी शुभ काम जैसे हवन, यज्ञ, विशेष पूजा पाठ और मांगलिक कार्य करने से पूर्व पंचक पर जरूर विचार करना चाहिए। जुलाई मास में पंचक सावन के सोमवार पर भी रहेगा । शुभ कार्य को करने हेतु पंचक के 5 दिन वर्जित माने जाते है, पंचक हर महीने में पड़ता है। इस साल जुलाई के महीने में पंचक 6 जुलाई 2023 वृहस्पतिवार को 01ः40 बजे दोपहर से शुरू होकर 10 जुलाई 2023 तक रहेगा। इस वर्ष जुलाई माह के पहले सोमवार और कालाष्टमी व्रत पर पंचक का साया रहेगा। हिन्दू धर्म के अनुसार पंचक में शुभ कार्य नहीं किये जाते हैं परन्तु इस दौरान शिव पूजा में पंचक का कोई असर होता, अतः आप बिना किसी डर के सावन में पूजन एवं व्रत त्यौहार कर सकते हैं।

घर में सुख समृद्वि का आगमनः

सावन का पवित्र महीना मंगलवार 4 जुलाई 2023 से शुरू हो रहा है। भगवान शिव के इस प्रिय माह में वास्तु के अनुसार घर पर कुछ शुभ पौधों को भी लगाकर महादेव को प्रसन्न करके दोगुना फल प्राप्त कर सकते हैं एवं इस से आपका भाग्य भी बदल सकता है। इन पौधों में तुलसी एवं बेल के पौधे को लगाना सर्वोत्तम माना गया है। इन पौधों में कोई वास्तु दोष नहीं होता है। वैसे तो भगवान शिव की पूजा में तुलसी चढ़ाना वर्जित माना जाता है। परन्तु सावन के इस पवित्र माह में तुलसी का पौधा लगाना और उस पर प्रतिदिन जल चढाने से सुख समृद्वि आती हैै। सावन में चांदी की वस्तुओं का दान पूर्ण विधि विधान से करने पर संतान प्राप्ति का सुख प्राप्त होता है।

सावन के महीने में शिव की पूजा से विशेष फल की प्राप्ति होती है। इस माह में अगर आप शमी के पेड़ की जड़ भोलेनाथ पर चढाते है और इसके बाद उस जड़ को अपनी तिजोरी में रखते है, तो ऐसा माना जाता है कि आपकी जिन्दगी में चल रहा संकट खत्म हो सकता है। यह एक मान्यता मात्र है।

यहां पर उपलब्ध करायी गयी सभी सूचनाएं सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है, यहां यह बताना जरूरी है कि nayaujalanews.com किसी भी तरह की मान्यता या जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।

Source: aajtak.in , abpnews.in